बालों और माइग्रेन की समस्या को 100 % दूर करता है रीठा, जानें इसके अन्य फायदे

कल्याण आयुर्वेद- रीठा एक मध्यम आकार का पेड़ होता है जो जंगलों में और उसके आसपास बहुतायत पाया जाता है. आयुर्वेद में रीठा को बहुत अधिक महत्व दिया गया है. रीठा एक ऐसी जड़ी- बूटी है जिसका इस्तेमाल कई रोगों को दूर करने के लिए किया जाता है. खासकर बालों के लिए रीठा अमृत के समान गुणकारी है.

बालों और माइग्रेन की समस्या को 100 % दूर करता है रीठा, जानें इसके अन्य फायदे

आपको बता दें कि रीठा के फलों में सैपोनिन, शर्करा और पेक्टिन मौजूद होते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं. 

रीठा का ज्यादातर इस्तेमाल बाल और त्वचा की सुंदरता को बढ़ाने के लिए किया जाता है. दुनिया में बालों और त्वचा की खूबसूरती के लिए बनाए जाने वाले उत्पादों में रीठा का उपयोग किया जाता है. बालों में उपयोग करने के लिए रिठा को रात भर पानी में भिगोकर उसमें शिकाकाई का पाउडर डाला जाता है, साथ ही आंवला भी डाला जाता है. इस मिश्रण को बालों में लगाने से बाल चमकदार और मुलायम बनते हैं. साथ ही बालों से जुड़ी अन्य समस्याएं भी दूर हो जाती है.

माइग्रेन की समस्या को दूर करने के लिए भी रीठा का उपयोग सदियों से किया जाता रहा है. इसके फलों से बने रस की चार- पांच बुंदे नाक में डालने से माइग्रेन और सिर दर्द ठीक होता है. कई लोग सिर दर्द या माइग्रेन दूर करने के लिए रीठा के फल से बने चूर्ण को सूंघते हैं. रीठा के बीज को सेककर और उसके चूर्ण में फिटकरी मिलाकर दांतों पर लगाने से दांतो से जुड़ी समस्याएं दूर होते हैं. साथ ही सूजन कम करने रीठा महत्वपूर्ण होता है.

रीठा में एंटी एलर्जी गुण होता है जो हमारी त्वचा को एलर्जी से बचाता है. मुंहासे दूर करने में भी रीठा उपयोगी है. सांप और बिच्छू के जहर को निकालने के लिए भी रीठा का इस्तेमाल किया जाता है.

इन सबके अलावा रीठा का उपयोग घरेलू उपयोग के लिए भी किया जाता है. पुराने आभूषणों की सफाई या कपड़े व बर्तन धोने के लिए रीठा का उपयोग किया जाता है. इससे कपड़े या वर्तन धोने से त्वचा को नुकसान नहीं होता है.

वीर्य की पुष्टि के लिए रीठे की गिरी को बारीक पीसकर बराबर मात्रा में चीनी और मिश्री का पाउडर मिलाकर रख लें. यह चूर्ण 5 ग्राम की मात्रा में दूध के साथ सेवन करें. इससे वीर्य की पुष्टि होती है.

रीठे का छिलका महीन- महीन पीस लें. उसमें जरा सा गुड़ और साबुन मिलाकर मलहम बना लें. अब इसे कपड़े पर फैलाकर फोड़े पर चिपका लें. प्रतिदिन ऐसा करने से दर्द सहित फ़ोड़ा बैठ जाएगा अथवा शीघ्र ही फूट जाएगा.

इस तरह रीठा के अनेक फायदे वहीं अगर इसके नुकसान की बात करें तो इसे आंखों से दूर रखना चाहिए. यह आंखों के लिए नुकसानदायक हो सकता है. इसके अलावा रीठा का अधिक उपयोग करने से भी बचना चाहिए. साथ ही इसका किसी भी प्रयोग से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments