शरीर में दिखे ये 10 लक्षण तो हो जाएं सावधान, कोलेस्ट्रोल बढ़ने का है संकेत

कल्याण आयुर्वेद- आज की बदलती लाइफ स्टाइल में डायबिटीज, मोटापा, हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रोल जैसी समस्या आम होती जा रही है. कोलेस्ट्रोल एक प्रकार का लुब्रिकेंट है जो ब्लड सेल्स में मौजूद होता है. हार्मोन्स के निर्माण, शरीर में कोशिकाओं को स्वस्थ और ठीक रखने का काम कोलेस्ट्रोल करता है. कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ने पर खून का गाढ़ा होना, आर्टरी ब्लॉकेज, स्ट्रोक, हार्ट अटैक और दिल की बीमारियों का खतरा अधिक हो जाता है. इसलिए शरीर में सही मात्रा में कोलेस्ट्रोल का होना आवश्यक है.

शरीर में दिखे ये 10 लक्षण तो हो जाएं सावधान, कोलेस्ट्रोल बढ़ने का है संकेत

आपको बता दें कि शरीर में हाई कोलेस्ट्रोल की मात्रा को देखने के लिए टेस्ट करवाना होता है. लेकिन कुछ आसान लक्षणों द्वारा भी आपको पता चल सकता है कि शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ रही है. इसे पहचान कर आप समय रहते शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित कर सकते हैं.

कितनी होनी चाहिए कोलेस्ट्रोल की मात्रा-

शरीर में सामान्य कोलेस्ट्रोल की मात्रा 200mg/dl या इससे कम होनी चाहिए. बॉर्डर लाइन कोलेस्ट्रोल 200 से 239mg/dl के बीच, हाई कोलेस्ट्रॉल 240mg/dl होना चाहिए. गुड कोलेस्ट्रोल कोरोनरी, हार्ट डिजीज, स्ट्रोक को रोकता है. यह कोशिकाओं को वापस लीवर में जाकर या तो यह टूट जाता है या फिर पदार्थों के साथ शरीर से बाहर निकल जाता है.

तो चलिए जानते शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या लक्षण दिखाई देते हैं?

1 .सांस फूलना- थोड़ा चलने पर या कोई भी काम करने पर सांस फूलना या थकावट होना शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने का संकेत है. कोलेस्ट्रोल बढ़ने के कारण आप ज्यादा काम किए बिना ही थकान महसूस करने लगते हैं. यदि आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो आपको कोलेस्ट्रोल चेकअप कराना चाहिए.

2 .जरूरत से ज्यादा पसीना- पसीना आना गर्मी के दिनों में या कोई मेहनत वाला काम करने में पसीना आना आम बात है. लेकिन जरूरत से ज्यादा पसीना आना आपके लिए गंभीर संकेत हो सकती है. इसलिए इसे नजरअंदाज करने के बजाय आपको तुरंत अपने कोलेस्ट्रोल चेकअप कराना चाहिए.

3 .पैरों में दर्द लगातार रहना- बेवजह पैरों में दर्द रहना भी हाई कोलेस्ट्रोल के लक्षणों में शामिल है. ऐसे में आपको दर्द दूर करने के लिए पेन किलर का सहारा नहीं लेना चाहिए, बल्कि अपना चेकअप करवाना चाहिए और इसका इलाज जल्द से जल्द करवाना हितकर होगा.

4 .सिर में तेज दर्द- आज के समय में भागदौड़ भरी जिंदगी के कारण ज्यादातर लोग तनाव में रहते हैं जो सिर दर्द का आम कारण है और कभी- कभी सिर में दर्द होना कोई बड़ी बात नहीं है. लेकिन लगातार सिर दर्द रहना हाई कोलेस्ट्रोल का संकेत होता है. जब आपके ब्लड में कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ जाती है तो दिमागी नसों में ब्लड की सप्लाई नहीं हो पाती है. इसके कारण आपको लगातार रहने लगता है.

5 .वजन बढ़ाना- अचानक से लगातार वजन बढ़ना या भारीपन महसूस होना कोलेस्ट्रोल बढ़ने का संकेत हो सकता है. इसको नजरअंदाज न करें बल्कि कोलेस्ट्रोल लेवल की जांच करवाएं.

6 .बाइल निकलना- शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने पर आंख के नीचे या गर्दन पर बाइल या स्किन टैग निकल आते हैं. ऐसी स्थिति में आपको डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए.

7 .ब्लड प्रेशर का हाई होना- ब्लड प्रेशर का अचानक सामान्य से अधिक हो जाना कोलेस्ट्रोल बढ़ने की कारण होता है. बढ़ते हुए कोलेस्ट्रोल के इस लक्षण को हल्के में लेने के बजाय आपको तुरंत चेकअप करवाना चाहिए.

8 .जोड़ों में दर्द होना- घुटनों, कमर या जोड़ों में अचानक दर्द रहने लगे तो आपको समझ जाना चाहिए. कोलेस्ट्रोल चेकअप करवाना आवश्यक हो गया है.

9 .सीने में दर्द या बेचैनी होना- बिना किसी कारण या भोजन के बाद सीने में दर्द या बेचैनी सी महसूस होने लगे तो इसकी वजह भी हाई कोलेस्ट्रोल हो सकता है.

10 .धड़कन तेज होना- अगर बिना वजह दिल जोर- जोर से धड़कता है तो भी आपको तुरंत डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए. कोलेस्ट्रोल लेवल बढ़ने के कारण दिल तक खून की सप्लाई ठीक से नहीं हो पाती है. जिसके वजह से दिल की धड़कन तेज हो जाती है.

नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है अधिक जानकारी के लिए उपर्युक्त लक्षण दिखने पर किसी योग्य डॉक्टर की सलाह लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments