ये 5 आयुर्वेदिक उपाय जो थायराइड को जड़ से कर सकता है खत्म ? परेशान है तो जरूर आजमाएं

कल्याण आयुर्वेद- आज के समय में मोटापा, डायबिटीज, थायराइड जैसी समस्याएं आम होती जा रही है. आज बहुत से ऐसे लोग हैं जो थायराइड की समस्या परेशान हैं. थायराइड के कारण शरीर में कई परेशानियाँ आने लगती है. जैसे- जल्दी थक जाना, सांस फूलना, जल्दी से तनाव में आ जाना, ताकत में कमी आ जाना, मस्टरोल प्रॉब्लम होना, हार्ट से रिलेटेड समस्याएं होना, बालों का झड़ना, आंतों में खराबी जैसी समस्याएं थायराइड से ग्रसित लोगों के अंदर देखी जाती है. ऐसा जरूरी भी नहीं है कि हर थायराइड के मरीज को यह सारी समस्याएं हो. थायराइड एक बहुत ही जटिल बीमारी है जिसे आसानी से खत्म नहीं किया जा सकता है.

ये 5 आयुर्वेदिक उपाय जो थायराइड को जड़ से कर सकता है खत्म ? परेशान है तो जरूर आजमाएं

थायराइड को जड़ से खत्म करने में बहुत समय लग जाता है और डॉक्टर के द्वारा लिए जाने वाले ट्रीटमेंट से कई बार थायराइड कंट्रोल तो हो जाता है लेकिन खत्म नहीं होता है और यही वजह होती है कि दवाइयों का सेवन उम्र भर तक करना पड़ जाता है. थायराइड की बीमारी को हमेशा के लिए खत्म करने के लिए हमें दवाइयों के साथ-साथ कुछ आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करना चाहिए. जिससे इसे ठीक होने में गति प्रदान हो.

इसलिए आज हम कुछ वैसे आयुर्वेदिक चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं जो थायराइड को जड़ से खत्म करने में आपकी मदद कर सकता है?

थायराइड होता कैसे है ?

थायराइड की बीमारी हमारे शरीर में पाए जाने वाले थायराइड ग्लैंड यानी कि ग्रंथि के अनुचित व्यवहार करने के कारण होती है. यह ग्रंथि एक तितली के समान आकृति वाली होती है जो कि हमारे गले के आगे वाले हिस्से पर होती है और हमारी सांस लेने वाली नली को राइट और लेफ्ट को कवर किए रहती है. यह होती तो बहुत छोटी है लेकिन यह हमारे शरीर में हार्मोन्स को वितरण करने की एक मुख्य स्रोत होता है. जिससे हमारे शरीर का असर पड़ता है.

थायराइड की ग्रंथि T3- t4 नामक हार्मोन निकालते हैं जो हमारे शरीर के खून में जाकर मिलते हैं और हमारे शरीर की ग्रोथ और एनर्जी मेटाबोलिज यानी कि ऊर्जा बचाने का काम करते हैं. जिसमें अगर गड़बड़ी हो जाती है तो हमारे शरीर का वजन एकदम घटने या बढ़ने लगता है. साथ ही अन्य प्रकार की समस्याएं भी होने लगती है.

थायराइड तीन प्रकार की होती है-

1 .हाइपर थायराइडिज्म

2 .हाइपो थायराइडिज्म

3 .ग्वाइटर यानी कि थायराइड की ग्रंथि में किसी तरह की सूजन या इन्फेक्शन.

यह समस्या तब होती है जब हमारे शरीर की ग्रंथि हमारे शरीर को उतनी मात्रा में हार्मोन्स प्रदान नहीं करें, जितनी कि हमारे शरीर को आवश्यकता होती है. ऐसी स्थिति में हमारे शरीर का वजन बहुत तेजी से बढ़ना लगता है और साथ ही आंत से रिलेटेड समस्याओं के साथ बालों का झड़ना भी शुरू हो जाता है. हाइपो थायराइड सबसे ज्यादा और सबसे कॉमन है क्योंकि यह बहुत जिद्दी बीमारी है. इसलिए हमें हर तरफ से इसे नियंत्रित करना होगा.

थायराइड को खत्म करने के आयुर्वेदिक नुस्खे-

1 .धनिया का पानी- इसे बनाने के लिए चाहे धनिए के पाउडर को भी ले सकते हैं या फिर साबुत धनिया भी ले सकते हैं. इसके लिए आपको चार से पांच चम्मच धनिए को 1 लीटर पानी में डाल कर अच्छे से उबालना है और इसे तब तक उबालते रहना है जब तक कि पानी आधा रह जाए. इस तरह से पानी का कलर बदल जाएगा और यह ड्रिंक तैयार हो जाएगा. यह ड्रिंक को आपको प्रतिदिन सुबह खाली पेट पीना है. इस ड्रिंक को पीने से थायराइड की समस्या में तेजी से सुधार आता है यह बहुत ही कारगर है.

2 .इसके अलावा एक पाउडर कर सकते हैं? इसके लिए आपको दालचीनी का पाउडर, अजवाइन का पाउडर, मेथी दाने का पाउडर तीनों बराबर मात्रा में मिक्स कर लेना है और इसका एक चम्मच की मात्रा में गर्म पानी के साथ प्रतिदिन खाना खाने से पहले सेवन करना है. यह थायराइड की समस्या के लिए बहुत ही कारगर है.

3 .नारियल का तेल-

नारियल का तेल भी थायराइड के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है. अगर आप चाहे तो खाने वाले नारियल तेल को प्रतिदिन गर्म दूध में एक चम्मच मिलाकर पी सकते हैं और साथ ही भोजन में भी नारियल के तेल को डालकर इसका सेवन कर सकते हैं. जिन लोगों को थायराइड की समस्या है उन लोगों को नारियल के तेल का सेवन प्रतिदिन करना काफी फायदेमंद होता है.

4 .सेब का सिरका-

इसके अलावा एक चीज और है जो थायराइड की समस्या में बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है सेब का सिरका. यह थायराइड के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इसके लिए एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच सेब का सिरका और एक चम्मच शहद मिलाकर पीना चाहिए. इससे थायराइड की समस्या में सुधार आता है और साथ ही हमारे वजन को भी कम करने में मदद करता है.

5 .हरड़ का पाउडर- हरड़ का पाउडर थायराइड के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण औषधियों में से एक है. इसके लिए हरड़ का चूर्ण प्रतिदिन एक चम्मच की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सुबह-शाम सेवन कर सकते हैं. इससे थायराइड की समस्या में बहुत जल्दी राहत मिलता है.

इसके अलावा आयुर्वेद की अमृतादी गुग्गुल दो-दो गोली सुबह- शाम एवं त्रिफला चूर्ण रात को खाना के बाद एक चम्मच की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से थायराइड में आशातीत लाभ होता है. अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करना भी थायराइड के लिए काफी फायदेमंद होता है. अश्वगंधा विशेषकर हाइपोथायराइड में अधिक फायदेमंद होता है क्योंकि यह हमारे शरीर में हार्मोन की वृद्धि करता है.

नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. अधिक जानकारी के लिए योग्य डॉक्टर की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments