क्या गर्भावस्था में पका हुआ पपीता खाना चाहिए ? जानिए सही जवाब

कल्याण आयुर्वेद- शादी के बाद हर महिला की ख्वाहिश होती है कि वह गर्भ धारण करें और एक सुंदर व स्वस्थ बच्चे को जन्म दे. इस दौरान एक महिला की जीवन शैली में सामान्य रूप से बदलाव आना लाजिमी हो जाता है. गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपने खानपान का पूरा ध्यान रखना पड़ता है क्योंकि उसके गर्भ में पल रहे शिशु को भरपूर पोषण प्राप्त हो. बच्चा स्वस्थ एवं सुंदर पैदा हो.

क्या गर्भावस्था में पका हुआ पपीता खाना चाहिए ? जानिए सही जवाब

गर्भवती महिला के लिए भोजन में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन एवं विटामिंस होनी चाहिए और इसकी आपूर्ति के लिए उनकी डाइट में सभी प्रकार के फल, सब्जियां, दाल एवं रिच प्रोटीन के लिए मांसाहारी चीजों को भी शामिल करना होगा. हालाकि शिशु की सुरक्षा के दृष्टिकोण से गर्भवती महिलाओं के भोजन में कुछ चीजों को वर्जित कर दिया जाता है जिसमें पपीता भी शामिल होता है.

पपीता को लेकर एक आम धारणा बन गई है कि यह गर्भावस्था नुकसानदायक होता है, इसलिए इसे बिल्कुल भी नहीं खाने की सलाह दी जाती है. दरअसल, अब पके पपीते में एक तत्व लेटेक्स की अधिकता होती है जो गर्भाशय में शिशु की मुश्किलें बढ़ा सकता है.

इसलिए स्वास्थ्य विशेषज्ञ पपीता के छिलके, बीज या फिर अधपके पपीते को खाने की सलाह नहीं देते हैं जबकि ठीक से पका हुआ पपीता गर्भवती महिला के लिए लाभदायक होता है. जी हां, पूर्ण रूप से पके हुए पपीते को संतुलित मात्रा में आहार में शामिल करने से आपके शिशु को कोई खतरा नहीं होता है.

आपको बता दें कि अच्छी तरह से पके हुए पपीते में विटामिन सी एवं विटामिन ई मौजूद होता है. साथ ही इसमें भारी मात्रा में फाइबर एवं फोलिक एसिड मौजूद रहता है जो कि आपके लिए काफी लाभदायक होगा. इसलिए याद रहे गर्भवती महिला के भोजन में पपीते का जूस और शहद के साथ शेक बनाकर शामिल करने से उन्हें भरपूर पोषण प्राप्त होता है हालांकि इसका भी सेवन एक सीमित मात्रा में ही करना चाहिए.

नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है, अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर या डाइटिशियन की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments