हर महिलाओं को करनी चाहिए यह एक्सरसाइज, फिट रखने के साथ कई बीमारियां रहती है दूर

कल्याण आयुर्वेद- आज के समय में हर महिला की चाहत होती है कि वह स्वस्थ रहने के साथ ही रहे यानी उनका मोटापा नियंत्रित रहे और वह दिखने में खूबसूरत बनी रहे. क्योंकि आज के समय में मोटापा एक आम समस्या हो गई है, जिससे ज्यादातर महिलाएं प्रभावित हो रही हैं. मोटापा न सिर्फ उनके फिटनेस को खराब कर देती है बल्कि सेहत को भी नुकसान होने लगता है. इसलिए आज हम आपको एक ऐसे एक्सरसाइज के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे महिलाओं को स्वस्थ व फिट रहने में मदद मिल सकती है?

हर महिलाओं को करनी चाहिए यह एक्सरसाइज,  फिट रखने के साथ कई बीमारियां रहती है दूर

स्वास्थ्य व फिट रहने के लिए महिलाओं को कोर एक्सरसाइज करना चाहिए. इस एक्सरसाइज का असर पूरे शरीर पर पड़ता है और शरीर अंदर से मजबूत रहता है. चलने, दौड़ने, कुछ खींचने या धक्का देने हर तरह की गतिविधियों में कोर मसल्स का इस्तेमाल होता है. यह मांस पेशियां शरीर में एक समूह की तरह काम करती है.

वैसे तो कोर मसल्स को मजबूत करने के लिए कई एक्सरसाइज है. लेकिन एक खास एक्सरसाइज है जो ट्रांसवर्स एब्डोमिनल मसल्स पर असर डालती है जो हर महिला के लिए करना आवश्यक है.

ट्रांसवर्स एब्डोमिनल मसल्स मांसपेशियां सिक्स पैक एब्स के नीचे की तरफ होती है. यह पीठ के निचले हिस्से और कोर मसल्स को सहारा देती है. कमजोर ट्रांसवर्स एब्डोमिनल मसल्स की वजह से कई लोगों को पीठ के निचले हिस्से में दर्द होता है. सक्रिय होने पर मांस पेशियों का यह समय आंतरिक रूप से कई अंगों की रक्षा करता है. TVA रीढ़ को स्थिर रखता है.

महिलाओं के लिए क्यों है जरूरी ?

ट्रांसवर्स एब्डोमिनल मसल्स पसलियों के बीच सामने से पीछे की ओर समानांतर चलती है. अगर आपकी यह मांसपेशियां मजबूत नहीं है तो इसका असर आपके पेट की मांसपेशियों पर भी पड़ेगा. TVA मसल्स गर्भावस्था के बाद बढ़ा वजन घटाने में मदद करती है और एक संतुलित वजन बनाए रखती है. इस मांस पेशियों को मजबूत करने से पेल्विक फ्लोर भी मजबूत होता है.

एल-सीट एक्सरसाइज-

कोर मसल्स को मजबूत बनाने के लिए एल- सीट सबसे बेहतरीन एक्सरसाइज है. इसे करने में थोड़ी कठिनाई होती है लेकिन यह शरीर को अंदर से मजबूत बनाती है. एल- सीट एक्सरसाइज एब्स, हिप्स और ट्राइसेप्स पर एक साथ काम करती है. इसे करने के लिए अपने दोनों हाथों को फर्श पर सीधा रखें. अब दोनों पैरों को सीधा रखते हुए फर्श के समानांतर ऊपर उठाएं. इस एक्सरसाइज में आपका शरीर एल सेप में होता है. इसलिए इसे एल-सीट एक्सरसाइज कहते हैं. ट्रांसवर्स एब्डोमिनल मसल्स मजबूत बनाने के लिए प्लैंक, साइड प्लैंक एक्सरसाइज, चेयर एक्सरसाइज, एब्डोमिनल एक्सरसाइज भी है.

यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments