गर्भावस्था के दौरान इन चीजों के सेवन से बढ़ जाता है गर्भपात का खतरा, महिलाएं जरुर जानें

कल्याण आयुर्वेद- हर महिला की ख्वाहिश होती है कि वह शादी के बाद गर्भ धारण करें और एक स्वस्थ एवं सुंदर बच्चे को जन्म दे, इस दौरान महिलाओं को कई तरह की शारीरिक एवं मानसिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है. इतना ही नहीं गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को रहन-सहन से लेकर खानपान तक के नियमों में बदलाव करना पड़ता है.

गर्भावस्था के दौरान इन चीजों के सेवन से बढ़ जाता है गर्भपात का खतरा, महिलाएं जरुर जानें

गर्भावस्था में अच्छा खान-पान जहां मां और बच्चे की सेहत के लिए फायदेमंद होती है वहीं कुछ ऐसी चीजें भी है जिससे गर्भवती महिलाओं को भूलकर भी नहीं खाना चाहिए. इन चीजों का सेवन करने से गर्भवती को नुकसान हो सकता है. जिससे गर्भ में पल रहे शिशु को नुकसान हो सकता है और कई बार को गर्भपात तक का खतरा हो सकता है.

चलिए जानते हैं विस्तार से-

पपीता- गर्भवती महिलाओं कच्चा पपीता तो भूलकर भी नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इसमें लेटेक्स पाया जाता है जो गर्भपात के खतरे को बढ़ा देता है. इसके अलावा इसमें पैपिन होता है जो पेट में पल रहे भ्रूण के विकास के लिए खतरनाक होता है. पहली बार कंसीव कर रही महिलाओं को पता नहीं होता है और वह इसे पोषण से भरपूर समझकर खा लेते हैं. इसलिए घर के बड़े- बुजुर्गों को उन्हें इसकी जानकारी देनी चाहिए.

तुलसी का पत्ता- कहा जाए तो तुलसी के पत्ते के काफी फायदे हैं. लेकिन गर्भवती महिलाओं को तुलसी के पत्ते नहीं चाहिए और ना ही इस्तेमाल करना चाहिए. क्योंकि तुलसी के पत्तों में एस्ट्रोगोल नामक तत्व होता है जो गर्भपात के खतरा को बढ़ा देता है.

कैफ़ीन- जी हां यदि गर्भावस्था में आप बार-बार चाय पी रही है तो इसे कंट्रोल करें. इतना ही नहीं खुश रहने के लिए अगर आप चॉकलेट ज्यादा खाती है तो वह भी खतरनाक है. चाय, कॉफी और चॉकलेट जैसी चीजों में कैफीन होता है और उसके ज्यादा सेवन से गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है. हालांकि एक या दो कप चाय से कोई खतरा नहीं होता है, एक चॉकलेट खा सकती है. लेकिन इसका ज्यादा सेवन ना करें. ज्यादा सेवन से होने वाले बच्चे का वजन भी कम होता है.

अंडा- अंडे का सेवन करना गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है और इसे खाने की भी एक हद तक सलाह दी जाती है. लेकिन कच्चा अंडा उन्हें भूल कर भी नहीं खाना चाहिए. कच्चे अंडे में संक्रमण वाले बैक्टीरिया होते हैं जो मां और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक होते हैं. इससे दस्त का खतरा रहता है और दस्त अधिक होने पर गर्भपात की समस्या हो सकती है.

अनानास- गर्भवती महिलाओं को अनानास का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसमें ब्रोमेलिन एसिड मौजूद होता है जो समय से पहले प्रसव करा सकता है या अधिक मात्रा में सेवन से गर्भपात तक हो सकता है.

अंगूर- कहा जाए तो अंगूर का सेवन करना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है. लेकिन गर्भावस्था में इसका ज्यादा सेवन करने से बचना चाहिए, ज्यादा अंगूर खाने से प्री स्टेज पर डिलीवरी की समस्या पैदा हो जाती है. अगर पहली तिमाही में ज्यादा अंगूर खा लिए जाएं तो गर्भपात तक हो सकता है.

कच्चा मीट- कच्चे मांस और मछली का सेवन गर्भावस्था में बिल्कुल नहीं करना चाहिए, क्योंकि कच्चे मांस में पनपने वाले बैक्टीरिया गर्भवती महिलाओं को टॉक्सोप्लास्मोसिस नामक बीमारी से संक्रमित कर सकते हैं. इससे गर्भपात भी होने का खतरा बढ़ जाता है. इसी के साथ मछली नहीं खानी चाहिए, खासकर ऐसी मछली से जिसमे पारा अधिक हो.

नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है, अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर या डाइटिशियन की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments