ऐसे लोग सोच- समझ कर करें हल्दी का सेवन, बढ़ सकती है आपकी परेशानियां

कल्याण आयुर्वेद- हल्दी खाने का जाएगा और रंग बदलने में उपयोग किया जाता है. यह दुनिया भर में एक लोकप्रिय मसाला है लेकिन हल्दी का उपयोग केवल खाना पकाने तक सीमित नहीं है इसका उपयोग भारत में हजारों सालों से एक मसाले और जड़ी-बूटी के रूप में किया जाता है. हल्दी में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं जो हमारे सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं. आपको कुछ ऐसे लोगों के बारे में बताएंगे जिन्हें हल्दी का सेवन नहीं करना चाहिए.

ऐसे लोग सोच- समझ कर करें हल्दी का सेवन, बढ़ सकती है आपकी परेशानियां

तो आइए जानते हैं विस्तार से-

गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाएं- यह आमतौर पर गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित होता है, जब भोजन में लिया जाता है क्योंकि पके हुए खाद्य पदार्थों में करक्यूमिन का स्तर कम होता है इसे केवल तभी और सुरक्षित माना जाता है जब इसे औषधि के रूप में अत्यधिक मात्रा में लिया जाता है क्योंकि यह मासिक धर्म को बढ़ाने का कार्य करता है जिसके कारण गर्भावस्था खतरे में पड़ सकती है.

ब्लीडिंग डिसऑर्डर वाले लोग- जिन लोगों को ब्लड से संबंधित कोई भी विकार की समस्या हो या जिन लोगों को रक्त पतला करने की दवा का सेवन करना पड़ता है या अक्सर नाक से खून निकलने की समस्या है तो उन्हें अधिक हल्दी के सेवन से बचना चाहिए.

डायबिटीज वाले के लोग- डायबिटीज के मरीज को अपने आहार पर बहुत ध्यान देना चाहिए क्योंकि डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जो यदि एक बार हो जाए तो जिंदगी भर वह व्यक्ति के साथ रहती है. इसे कंट्रोल करना बहुत जरूरी है हालांकि करक्यूमिन रक्त में शर्करा की मात्रा को कम करने का कार्य करता है. आपको बता दें हल्दी में करक्यूमिन पाया जाता है लेकिन इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करें नहीं तो यह ब्लड शुगर को बहुत ही अधिक कम कर देगा जो हानिकारक साबित होगा.

किडनी स्टोन से ग्रसित लोग- खनिज और नमक के जमाव के कारण गुर्दे की पथरी क्रिस्टल बन जाती है. सबसे आम खनिज कैल्शियम ऑक्साइड होता है. आपको बता दें हल्दी में भी ऑक्साइड की मात्रा ज्यादा होती है इसलिए यदि आप गुर्दे की पथरी की समस्या से पीड़ित है तो हल्दी का सेवन सोच- समझ कर करें.

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments