गर्मी में लू लगने से इस तरह बचें, जानें लक्षण और कुछ टिप्स

कल्याण आयुर्वेद- लू लगना एक ऐसी स्थिति है जिसकी वजह से शरीर ज्यादा गर्म हो जाता है. यह आमतौर पर उनके तापमान में शारीरिक परिश्रम या दीर्घकालीन संपर्क के नतीजे से होता है. गर्मी के महीने में यह स्थिति आम होती है. आज की पोस्ट में हम आपको लू के बारे में बताएंगे.

गर्मी में लू लगने से इस तरह बचें, जानें लक्षण और कुछ टिप्स

तो आइए जानते हैं विस्तार से-

लू लगने के लक्षण-

1 .शरीर का तापमान उच्च- थर्मामीटर पर 40 डिग्री सेल्सियस यानी 104 से 105 डिग्री फॉरेनहाइट होना लू लगने का मुख्य संकेत होता है.

2 .परिवर्तित दिमागी स्थिति या व्यवहार जैसे- भ्रम, बेचैनी अस्पष्ट आवाज, चिड़चिड़ापन, दौरा और कोमा तक इसका लक्षण हो सकता है.

3 .पसीने के रंग में बदलाव आ जाना, इसके अलावा गर्मी मौसम से लू लगने पर आपको त्वचा स्पर्श करने पर गर्म और शुष्क महसूस होगी.

4 .पेट से संबंधित समस्याएं होना या उल्टी होना यह भी लू के लक्षण है.

5 .त्वचा की रंगत में बदलाव आना, आपकी त्वचा लाल भी हो सकती है क्योंकि यह शरीर के तापमान को बढ़ा देता है.

6 .तेजी से सांस लेना या सांस तेज और सत्य ही हो सकती है.

7 .आपकी नब्ज में काफी रूप से वृद्धि हो सकती है क्योंकि आपके शरीर को ठंडा करने में मदद करने के लिए गर्मी आपके हृदय पर जबरदस्त फ़ोर्स डालती है जिसके कारण हृदय की गति बढ़ सकती है.

लू लगने का कारण-

गर्म वातावरण के संपर्क में आना.

गर्मी के मौसम में कठोर गतिविधि करना.

गर्मी में अत्यधिक कपड़े पहनना.

पानी की कमी होना या शराब का सेवन करना.

लू इसका इलाज- 

इमरजेंसी इलाज का इंतजार करते वक्त लू ग्रसित व्यक्ति को ठंडा करने के लिए फौरन उपाय करना चाहिए. पीड़ित व्यक्ति को छांव या घर के अंदर ले जाएं. शरीर से अतिरिक्त कपड़ों को हटा दें और पानी से ठंडा करने की कोशिश करें. भीगी तौलिए से व्यक्ति के शरीर गर्दन को पोछें.

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments