इस समय खाएं किशमिश और एक कटोरी दही, फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान

कल्याण आयुर्वेद- खाने के साथ दही खाना हर किसी को बहुत पसंद होता है. हम दही का सेवन अलग- अलग तरीके से करते हैं. दही खाने से पाचन क्रिया बढ़ती है और त्वचा की समस्याएं भी दूर रहती है. दही के साथ अगर किशमिश मिलाकर खाया जाए तो यह और भी ज्यादा फायदेमंद हो जाता है. दही किशमिश खाने का समय भी काफी मायने रखता है. इसलिए आज के इस पोस्ट में हम आपको दही और किशमिश का सेवन करने का सही समय बताएंगे.

इस समय खाएं किशमिश और एक कटोरी दही, फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान

तो आइए जानते हैं विस्तार से-

दही यूं तो हमारे सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है. लेकिन आयुर्वेद के अनुसार अगर इसे गलत तरीके या गलत समय पर खाया जाए तो इसका उल्टा प्रभाव भी पड़ सकता है.

दही किशमिश खाने का सबसे बेस्ट टाइम होता है दोपहर या सुबह ब्रेकफास्ट का समय. आप इसे दोपहर के समय करीब 3:00 से 4:00 बजे के मिड डे मील के रूप में खा सकते हैं. इससे आपको जो लंच के बाद वाली मंचिंग है उस से भी छुटकारा मिल जाएगा.

इस बात का ध्यान रखें कि एक कटोरी दही में बहुत अधिक किशमिश न डालें. एक कटोरी दही में आप कम से कम चार से पांच किशमिश डालकर खाएं.

आइए जानते हैं दही किशमिश खाने के फायदे-

दही और किशमिश खाने से गुड बैक्टीरिया की ग्रोथ होती है. इसके साथ ही पेट की सूजन कम होती है. इन दोनों को मिलाकर खाने से हड्डियां भी मजबूत बनती है. इसके अलावा बड़े हुए ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में भी नहीं और किशमिश बहुत फायदेमंद होती है.

जिन लोगों को कब्ज की शिकायत रहती है उनके लिए एक नुस्खा है- भिगोए हुए किशमिश का सेवन इसके अलावा अगर आप नियमित खाते हैं तो आपको पाचन तंत्र से जुड़ी सभी समस्याओं से आराम मिलेगा.

यदि आप हमेशा जवान देखना चाहते हैं तो किशमिश के पानी को पीना शुरू कर दें. रात को पानी में किशमिश डालकर वाले और सुबह किशमिश के पानी को पीने से आप हमेशा जवान बने रहेंगे.

रात में भीगी हुई किशमिश खाने और उसका पानी पीने से आपकी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट को बढ़ाने का काम करता है. जिससे बाहरी वायरस और बैक्टीरिया से हमारा शरीर लड़ने में सक्षम होता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments