सेहत के लिए वरदान है तेजपत्ता, डायबिटीज से लेकर इन बीमारियों को भी करता है दूर

कल्याण आयुर्वेद - तेजपत्ता यह पेड़ पर उगता है. इसे पेड़ से तोड़कर सुखाया जाता है. यह पंचोरी की दुकान पर आसानी से मिल जाता है. भारतीय भोजन में यह एक विशेष स्थान रखता है. खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए तेज पत्ते का इस्तेमाल जरूर किया जाता है. भोजन की खुशबू को बढ़ाने के लिए भी यह फायदेमंद है. लेकिन क्या आप जानते हैं, कि यह हमारे सेहत के लिए कितना फायदेमंद होता है. आयुर्वेद में इसे औषधि की तरह सेवन किया जाता है. आज के इस पोस्ट में हम आपको तेज पत्ते का फायदा बताएंगे.

सेहत के लिए वरदान है तेजपत्ता, डायबिटीज से लेकर इन बीमारियों को भी करता है दूर

आइए जानते हैं इसके फायदे -

1.डायबिटीज - दुनिया भर में भारत देश में सबसे अधिक डायबिटीज के मरीज हैं. तेज पत्ते का सेवन करने से डायबिटीज मरीजों के लिए फायदेमंद होता है. डायबिटीज में तेज पत्ते का सेवन करने से शरीर में शुगर की मात्रा नियंत्रित रहती है और आपके लिए फायदेमंद होता है.

2.स्वसन तंत्र के लिए फायदेमंद - तेज पत्ते में एंटी इन्फ्लेमेटरी तत्व पाए जाते हैं. इसके सेवन से स्वसन तंत्र में आई सूजन कम करने में मदद मिलता है. इसमें एथनॉलिक एक्सट्रैक्ट और अन्य तत्व मौजूद होते हैं, जिससे दर्द में राहत मिलता है. इसका सेवन खांसी, अस्थमा, इनफ्लुएंजा और स्वसन से जुड़ी समस्याओं से छुटकारा मिलाता है.

3.दांतो के लिए फायदेमंद - तेज पत्ता का उपयोग दांतो के लिए भी फायदेमंद होता है. वैज्ञानिक द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार इसमें एक विशेष प्रकार का तेल होता है. इसमें मौजूद विटामिन सी जैसे तत्व पाए जाते हैं अगर आप तेज पत्ते से बनने वाली राख से भी मंचन करते हैं, तो आपके मुंह की समस्या दूर हो जाएगी.

4.वजन कम करने में मददगार - तेजपत्ता में मौजूद गुण वजन को कम करने में मदद करता है. इसके सेवन से भूख नियंत्रित होती है, जिससे इंसान अधिक नहीं खा पाता है और ऐसे में वह अधिक कैलोरी से बच जाता है. हालांकि अभी किसी प्रकार का वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है.

5.किडनी की समस्या से आराम दिलाता है - तेज पत्ते में मौजूद गुण किडनी की समस्या को राहत प्रदान करता है. शोध के अनुसार इसके सेवन से किडनी की समस्या से छुटकारा मिलता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments