करेला ही नहीं इसकी पत्तियां भी है कई बीमारियों का रामबाण औषधि, जानें इस्तेमाल करने की विधि

कल्याण आयुर्वेद- करेले की सब्जी खाना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है, हालांकि बहुत से लोग इसकी कड़वेपन की वजह से इसे खाना पसंद नहीं करते हैं. लेकिन करेले का सेवन करना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इसके सेवन से कब्ज की समस्या दूर होने के साथ ही कई स्वास्थ्य समस्याएं दूर रहती है.

करेला ही नहीं इसकी पत्तियां भी है कई बीमारियों का रामबाण औषधि, जानें इस्तेमाल करने की विधि

लेकिन आज हम करेला नहीं बल्कि इसकी पत्तियों के बारे में बताने जा रहे हैं जो कई बीमारियों को दूर करने में औषधि की तरह कारगर है.

तो चलिए जानते हैं करेले की पतियों के औषधीय गुण और इस्तेमाल करने की विधि-

1 .मासिक धर्म की समस्या से दिलाए राहत-

मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. जैसे- दर्द का होना, मासिक धर्म खुलकर नहीं आना ऐसी समस्याएं हो तो करेले के 10-15 पत्ते का रस निकाल लें. काली मिर्च का दो दाने पीसकर मिला लें साथ ही आधा चम्मच पीपल का चूर्ण और 1 ग्राम सोंठ मिलाकर पीने से मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से राहत मिलेगा और मासिक धर्म खुलकर भी आएगा.

मधुमेह रोगियों के लिए है लाभदायक-

मधुमेह रोगियों को करेले की सब्जी खाने और जूस पीने की सलाह दी जाती है. लेकिन इसकी पत्तियां भी मधुमेह रोगियों के लिए किसी औषधि से कम नहीं है. नियमित करेले की पत्तियां खाने से शुगर लेवल नियंत्रित रहता है. आपको बता दें कि इसमें विशिन और पॉलिपेप्टाइड पी जैसे गुण पाए जाते हैं जो ब्लड शुगर को नियंत्रण में रखते हैं.

महिलाओं को दूध बनाने में करता है मदद-

कई बार प्रसव के बाद महिलाओं में दूध की कमी देखी जाती है. ऐसे में बच्चे का पेट नहीं भरता है लेकिन आपको बता दें कि करेले की पत्तियां दूध बढ़ाने में काफी मददगार है. इस समस्या से निजात पाने के लिए करेले के 8- 10 पत्तों को पानी में उबालें. इस पानी को ठंडा करके प्रसूता को पिलाएं. इससे दूध में बढ़ोतरी होने लगेगी.

दाद के लिए है फायदेमंद-

दाद की समस्या बहुत ही आम है, जिससे ज्यादातर लोग परिचित हैं. शायद ही कोई लोग हो जिन्हें कभी दाद न हुआ हो. ऐसे में करेले की पत्तियां आपके लिए लाभदायक साबित होगी. करेले की चार- पांच पत्तियों को नियमित पीसकर पीने के साथ ही दाद वाली जगह पर लगाने से दाद से राहत मिलता है.

तलवे की जलन दूर करता है-

तलवे में जलन होना कोई बड़ी बात नहीं है, ऐसे में तलवे की जलन को दूर करने के लिए पत्तों का रस लगाना फायदेमंद होता है इससे जलन जैसी समस्या दूर हो जाती है.

बुखार को करता है दूर-

बुखार लगना एक आम समस्या है जो किसी को भी हो सकता है. शायद ही कोई व्यक्ति हो जिसे बुखार कभी ना लगा हो. ऐसी स्थिति में करेले की कोपल जिसे लोग आम भाषा में टूसा कहते हैं कोपल 7 पीस लेकर पीसकर चटनी की तरह बना लें और एक कप पानी में मिलाकर पी जाएं. 7 दिन तक सुबह खली पेट नियमित रूप से पीने से बुखार जड़ से खत्म हो जाता है.

Post a Comment

0 Comments