सावन के महीने में महिलाएं भूलकर भी ना करें ये काम, महाकाल हो जाएंगे नाराज़

कल्याण आयुर्वेद- हिंदू धर्म में सावन के महीने का खास महत्व होता है. इस महीने में लोग भगवान शिव के लिए व्रत रखते हैं. कुंवारी लड़कियां भगवान शिव का व्रत करती हैं ताकि उन्हें मनचाहा वर मिले. वही सुहागन औरतें पति और बच्चे की अच्छी सेहत तथा लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं. ऐसे में अगर आप भी सावन का व्रत रखना पसंद करती है तो आज के पोस्ट में हम आपको कुछ ऐसे नियमों के बारे में बताएंगे जो आपको पता होना चाहिए.

सावन के महीने में महिलाएं भूलकर भी ना करें ये काम, महाकाल हो जाएंगे नाराज़

तो आइए जानते हैं विस्तार से-

* सावन में भगवान शिव की पूजा करने के दौरान आपको अपने बालों को खुला नहीं छोड़ना चाहिए. इसके अलावा यदि आपने व्रत रखा है तो आप अपने बालों को बांधकर रखें.

* ऐसा माना जाता है कि शिवलिंग को छूने से माता पार्वती नाराज हो जाती है. इसलिए महिलाओं को शिवलिंग नहीं छूना चाहिए. आप शिवलिंग की पूजा जरूर कर सकती है लेकिन शिवलिंग को छूने से बचें.

* सावन के महीने में भूलकर भी शराब, मांस, मछली, तामसिक भोजन आदि का सेवन नहीं करना चाहिए. इस दौरान आपको अदरक, बैंगन, लहसुन, कड़ी, गन्ने का जूस, काली मिर्च और प्याज का सेवन करने से भी मना ही होती है क्योंकि भगवान शिव को यह सभी बिल्कुल पसंद नहीं है.

* भगवान शिव को हल्दी लगाना अशुभ माना जाता है. आप पूजा में शिव भगवान को भांग, धतूरा, बेल पत्र, सफेद फूल, शहद आदि चढ़ाएं.

* यदि आपने व्रत रखा है तो आप उस दिन भूलकर भी काले कपड़े न पहनें. ऐसा माना जाता है कि इससे नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है और भगवान शिव नाराज हो जाते हैं.

* मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को शिवलिंग की पूजा नहीं करनी चाहिए क्योंकि ऐसा करना अशुभ माना जाता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments