घर में मनी प्लांट लगाते समय इन नियमों का करें पालन, बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा

वास्तु शास्त्र- घर की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए लोग पेड़ पौधे लगाना बेहद पसंद करते हैं. लेकिन वास्तु और ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह पौधे हमारे जीवन पर गहरा असर डालते हैं, कुछ खास पौधों को घर पर लगाने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है. इसके अलावा आर्थिक स्थिति में भी सुधार आता है. इन्हीं में से एक पौधा है मनी प्लांट. वास्तु शास्त्र के अनुसार इसे घर पर लगाना बेहद ही माना जाता है. लेकिन इसे लगाने से पहले कुछ नियमों का पालन करना बेहद जरूरी होता है.

घर में मनी प्लांट लगाते समय इन नियमों का करें पालन, बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा

तो आइए जानते हैं विस्तार से- 

* वास्तु के अनुसार मनी प्लांट को घर की अग्नि दिशा में लगाना शुभ माना जाता है. इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का आभास होता है तथा देवी लक्ष्मी की असीम कृपा होने की वजह से आर्थिक स्थिति भी मजबूत होने लगती है.

* मनी प्लांट को घर की दक्षिण पूर्व दिशा में लगाना बहुत ही शुभ होता है. दरअसल घर की दक्षिण पूर्व दिशा प्रथम पूजनीय गणेश जी की मानी जाती है. वही मनी प्लांट का पौधा पैसा और किस्मत का प्रतीक माना जाता है. ऐसे में इस दिशा में मनी प्लांट लगाने से किस्मत के दरवाजे खुल जाते हैं. जीवन की समस्याएं दूर हो जाती हैं और तरक्की होने लगती है. इसके साथ ही घर में सुख समृद्धि आती है.

* वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के ईशान कोण की दिशा देव गुरु बृहस्पति की मानी जाती है. इसके साथ ही आपको बता दें कि शुक्र तथा बृहस्पति एक दूसरे के विरोधी माने जाते हैं. ऐसे में इस दिशा में मनी प्लांट न लगाएं. इस पर आपको सेहत से संबंधित समस्या हो सकती है.

* मनी प्लांट की बेल कभी भी जमीन को नहीं छूने चाहिए. वास्तु में इसे काफी अशुभ माना गया है इससे सुख- समृद्धि में रुकावट आने लगती हैं. इसलिए इसे घर में लगाने से पहले इस बात का ध्यान रखें कि इस की बेल हमेशा ऊपर की ओर हो.

* मनी प्लांट का पौधा हमेशा हरा भरा होना चाहिए. तभी यह जीवन में खुशहाली व सुख समृद्धि लाने का काम करता है. वही इसकी अगर कुछ पत्तियां सूख जाए तो वह नकारात्मक ऊर्जा पैदा कर सकती हैं. ऐसे में इसकी पत्तियां सूखने पर तुरंत हटा दें.

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments