आपके भाग्य में चार चांद लगा सकती है यह सस्ती अंगूठी, जानिए पहनने का सही समय और तरीका

ज्योतिष शास्त्र- हर किसी की चाहत होती है कि वह ऐशो- आराम की जिंदगी जिए और इसके लिए उसे धन की आवश्यकता होती है. हालांकि धन कमाने के लिए लोग जी तोड़ मेहनत भी करते हैं. लेकिन सभी का भाग्य साथ नहीं देता है और वैसे लोग हमेशा गरीबी झेलते रहते हैं. लेकिन शास्त्रों की माने तो ऐसे में चांदी का अंगूठी धारण करना फायदेमंद बताया गया है.

आपके भाग्य में चार चांद लगा सकती है यह सस्ती अंगूठी, जानिए पहनने का सही समय और तरीका

शास्त्रों के अनुसार चांदी का चांद और ग्रह बृहस्पति के साथ गहरा संबंध है. यह आपके शरीर में पानी और कफ को बैलेंस रखने में मदद करती है. शास्त्रों के अनुसार चांदी आपके जीवन में भाग्य, शांति और ढेर सारी खुशियां लेकर आती है. साथ ही यह एक ऐसा खास मेटल है जो आपके शरीर के लिए काफी लाभदायक होता है. जैसे कि चांदी आपके शरीर से सभी टॉक्सिंस यानी विषैले पदार्थ को दूर कर आपको तंदुरुस्त रखने में भी मदद करती है.

तो चलिए जानते हैं चांदी की अंगूठी धारण करने का सही समय और फायदे-

चांदी आपके जीवन में पॉजिटिव एनर्जी को बढ़ावा देती है. शास्त्रों के अनुसार यदि आपको किसी बात का भय सता रहा है तो अपने हाथ की छोटी उंगली में चांदी की अंगूठी पहनें. ऐसा करने से मन में आ रहे सभी नकारात्मक विचार खत्म हो जाएंगे.

चांदी की अंगूठी मन को शांत रखने के साथ-साथ आपकी सुंदरता और पर्सनैलिटी को भी उभारने में मदद करती है.

जिन लोगों को ज्यादा गुस्सा आता है उनके लिए चांदी की अंगूठी धारण करना काफी लाभदायक और शुभ रहता है.

चांदी की अंगूठी पहनने से इम्यून सिस्टम मजबूत होती है. जिससे सर्दी- जुकाम की समस्या से भी बचा कर रखती है.

जोड़ों की दर्द से परेशान लोगों को चांदी की अंगूठी धारण करना लाभदायक होता है.

चांदी की अंगूठी धारण करने का सही समय और तरीका-

चांदी की अंगूठी को धारण करने का सबसे अच्छा दिन बृहस्पतिवार माना जाता है. याद रखें अंगूठी को बुधवार की रात कांच की कटोरी में पानी भरकर उसमें डालकर रख दें. सुबह उस अंगूठी को पानी से निकालकर भगवान विष्णु के चरण में रखकर विधिवत पूजा करें. इसके बाद अंगूठी को कनिष्ठा अंगुली में धारण कर लें. ऐसा करने से अंगूठी को धारण करने का फल दोगुना मिलेगा.

Post a Comment

0 Comments