दूध में मिलाकर पिएं जायफल, इन 4 समस्याओं का है रामबाण उपाय, महिला हो या पुरुष जरुर पढ़ें

कल्याण आयुर्वेद - दूध का सेवन सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है. वहीं अगर इसमें आप थोड़ा सा जायफल पाउडर मिला लें या इसे दूध के साथ उबालकर पीएं, तो यह दूध के फायदों को डबल कर देता है. जायफल में प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, जिंक, विटामिन सी, विटामिन बी सिक्स, विटामिन ए जैसे ढेरों पोषक तत्व पाए जाते हैं. सेहत से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. यह आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित होता है. आज हम आपको इसके कुछ फायदे बताएंगे.

दूध में मिलाकर पिएं जायफल, इन 4 समस्याओं का है रामबाण उपाय, महिला हो या पुरुष जरुर पढ़ें

तो आइए जानते हैं विस्तार से -

1.पेट से जुड़ी समस्याएं -

अगर आपको पेट से जुड़ी समस्याएं रहती है, तो इसमें दूध और जायफल का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद रहेगा. यह पाचन तंत्र को ठीक रखता है. इससे कब्ज और गैस की समस्या दूर होती है.

2.जोड़ों के दर्द से छुटकारा -

जिन लोगों को जोड़ो के दर्द की समस्या है, उनके लिए यह उपाय बेहद फायदेमंद है. आपको बता दें जायफल में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं. दूध में मिलाकर इसका सेवन करने से जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द से राहत मिलता है. इससे सूजन की समस्या भी कम हो जाती है. गठिया के मरीजों के लिए इसका सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है.

3.अनिद्रा की समस्या से छुटकारा -

आजकल की तनाव भरी जिंदगी में ज्यादातर लोगों को अनिद्रा की समस्या होती है. इसमें आपको नींद ना आने की दिक्कत तो होती है. यदि आपको भी यह समस्या है, तो इसके लिए आप जायफल और दूध का सेवन कर सकते हैं. जायफल में anti-stress गुण पाए जाते हैं. इससे तनाव दूर होता है और नींद ना आने की समस्या में आपको फायदा मिलता है.

4.त्वचा के लिए फायदेमंद -

दूध और जायफल का सेवन करना हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. यह तो आप सभी जान गए. परंतु आपको बता दें कि यह आपकी त्वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है. इसका सेवन करने से त्वचा चमकदार बनती है. जायफल को दूध के साथ पीसकर उसका पेस्ट तैयार करें और इसे अपने चेहरे पर लगाएं. इसके अलावा आप दूध में जायफल मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं. दोनों तरह से आपको फायदा मिलेगा.

इस तरह करें तैयार -

इसका पूरा लाभ लेने के लिए आपको इसका अच्छा तरह से सेवन करना बहुत जरूरी है. इसके लिए आप इसे अच्छी तरह से तैयार करें. इसे तैयार करने के लिए दूध में जायफल को उबालकर इसका सेवन कर सकते हैं. इसके अलावा दूसरा तरीका भी है, इसमें आप जायफल के पाउडर को दूध में उबाल लें और इस मिश्रण को तैयार होने के बाद इसे छानकर पी लें.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

इसे भी पढ़ें-चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

हींग क्या है ? जाने इसके फायदे और इस्तेमाल करने के तरीके

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

बरसात के मौसम में होने वाली 8 प्रमुख बीमारियां, जानें लक्षण और बचाव के उपाय

स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए पुरुषों को इन फलों का सेवन करना चाहिए

पुरुषों में शारीरिक कमजोरी मिटाकर नया जोश प्राप्त कराने के आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

श्वेत प्रदर ( ल्यूकोरिया ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

ये राज पता हो तो हर कोई पा सकता है सुंदर, गोरा और निखरी त्वचा

सिर दर्द होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

बच्चों को सुखंडी ( सुखा ) रोग होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार

वृक्क ( किडनी ) में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

राजयक्ष्मा ( टीबी ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार

आयुर्वेद के अनुसार संभोग करने के नियम, जानें सेक्स से आई कमजोरी दूर करने के उपाय

अशोकारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कुमारी आसव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महासुदर्शन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवंगादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

त्रिफला चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जलोदर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

अल्जाइमर रोग होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

रक्त कैंसर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

बवासीर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

छाती में जलन होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

अग्निमांद्य रोग होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

रैबीज ( जलसंत्रास ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

खांसी होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

Post a Comment

0 Comments