40 की उम्र के बाद भी दिख सकते हैं जवां, बस लाइफ में करें ऐसे बदलाव

कल्याण आयुर्वेद - 40 की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते चेहरे पर झुर्रियां और शरीर में ऊर्जा स्तर की कमी साफ दिखने शुरू हो जाती है. यानी हम पर बढ़ती उम्र का असर अपना रंग दिखाने लग जाता है. यह असर खासतौर पर महिलाओं में ज्यादा नजर आता है. इसलिए इस दौरान हमें अपनी सेहत का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है. हालांकि बढ़ती उम्र को रोकना हमारे बस के बाहर की बात है. फिर भी ऐसे में अगर हम स्वास्थ्य संबंधी कुछ उपायों पर ध्यान दे, तो बढ़ती उम्र के इन प्रभावों को काफी हद तक कम किया जा सकता है. वैसे यह उपाय कोई कठिन भी नहीं होते, क्योंकि यह हमारी जीवनशैली से जुड़े कुछ तौर तरीके होते हैं. जिन्हें हमें अपनाकर 40 की उम्र के बाद की आयु में भी फिट और जवां रहने में मदद मिलती है.

40 की उम्र के बाद भी दिख सकते हैं जवां, बस लाइफ में करें ऐसे बदलाव

तो आइए जानते हैं विस्तार से -

1.बीजों को अपनी डाइट में शामिल करें -

बीजों में वेजिटेबल प्रोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है. प्रोटीन से हमारे शरीर के मसल्स और हड्डियां निर्माण होते हैं. इसके अलावा यह हमारे तमाम तरह के मिनरल्स और फाइबर को पूरा करते हैं. साथ ही इनमें  फाइटोन्यूट्रीएंट्स पाए जाते हैं, जो हमारे जैविक प्रणाली को दुरुस्त बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं. तरह-तरह के बीजों को आपस में मिक्स करके लेना कहीं बेहतर माना जाता है. क्योंकि इस तरह हमें शरीर के लिए सभी आवश्यक अमीनो एसिड प्राप्त हो जाते हैं और इस तरह हमारी प्रोटीन संबंधित सभी जरूरतें भी अच्छी तरह से पूरी हो जाती है. इसके लिए हमें अपनी डाइट में उड़द, सोयाबीन के बीजों के अलावा, सूरजमुखी के बीजों और कद्दू के बीजों को भी शामिल करना चाहिए.

2.डाइट में दही को शामिल करें -

दही में अच्छे बैक्टीरिया पाए जाते हैं, जो खासकर हमारी आंखों की सेहत के लिए अच्छे माने जाते हैं. इसलिए दही को अब कुछ मायनों में सेहत के लिए दूध से भी ज्यादा फायदेमंद माना जाता है. इसका सेवन करने से हमारा ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है. दही में प्रोटीन, फैट और कैल्शियम की मात्रा पाई जाती है. इसके साथ ही दही में लगभग सारे विटामिन पाए जाते हैं, जो हमारी विटैलिटी या जीवनी शक्ति बरकरार रखने में मदद करते हैं.

3.देर रात को खाने और सोने की आदत को बदलें -

डॉक्टरों का मानना है, कि अच्छी सेहत बनाए रखने के लिए हमें रात को जल्द खाना खाकर सोना चाहिए और सुबह भी जल्दी उठ जाना चाहिए. हालांकि रात के खाने और उसके बाद सोने में 2 घंटे का अंतर भी होना चाहिए. पर आजकल की व्यस्त दिनचर्या वाली जीवनशैली में अक्सर हम देखते हैं, कि लोग देर तक जागते रहते हैं और लेट से खाना खाते हैं. इसका असर यह होता है कि हमारे शरीर में फैट और कार्बोहाइड्रेट वगैरह एनर्जी देने वाले ठीक नहीं हो पाते हैं. जिसकी वजह से डायबिटीज जैसी दिक्कतों की आशंका बढ़ जाती है. खास तौर से बढ़ती उम्र के दौरान की समस्याएं आती है. इसलिए इस दौर में सेहत बनाए रखने की खातिर हमें जल्दी खाना खाकर सो जाने की आदत अपनानी चाहिए.

4.विटामिन सप्लीमेंट का सेवन करें -

जैसा कि सामान्य तौर पर देखा जा सकता है, कि हममें से प्रत्येक दूध फलों या हरी मौसमी सब्जियों का पर्याप्त सेवन नहीं कर पाता है. यानी संतुलित आहार नहीं ले पाते हैं. जिसका नतीजा यह होता है कि हमारे अंदर कुछ पोषक तत्वों की कमी बनी रहती है. खासतौर पर विटामिन की. इसलिए बढ़ती उम्र में से पूरा करने के लिए आपको विटामिन के सप्लीमेंट लेना शुरू कर देना चाहिए. यह अच्छा आप्शन है. इसके लिए आप विटामिन सी, विटामिन ए और विटामिन डी सप्लीमेंट को डाइट में शामिल कर सकते हैं.

5.हरी सब्जियां और फल खाएं -

इसके अलावा हमें डाइट में हरी सब्जियों और फलों को जरूर शामिल करना चाहिए. जितना हो सके आप अधिक से अधिक इसका सेवन करें. क्योंकि इन खाद्य स्रोतों से मिलने वाले पोषक तत्व में विटामिन के अलावा फाइटोकेमिकल्स भी पाए जाते हैं, जो बढ़ती उम्र के असर काफी हद तक कम करने में मदद करते हैं.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

ayurvedgyansagar.com पर पढ़ें-

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जानें- बेहोशी होने के कारण, लक्षण और आपातकालीन उपचार

कमर दर्द ( कटि वेदना ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्वसनीविस्फार ( ब्रोंकाइटिस ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

कंपवात रोग क्या है? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

वृक्क पथरी क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

प्रतिश्याय ( सर्दी ) क्यों हो जाती है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

हींग क्या है ? जाने इसके फायदे और इस्तेमाल करने के तरीके

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

पेट में कृमि ( कीड़ा ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पित्ताशय में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

जानें- स्वास्थ्य रक्षा की सरल विधियां क्या है ?

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

 

Post a Comment

0 Comments