रात में खाना खाने के बाद इतने मिनट टहलना है जरूरी, मिलेंगे ये जबरदस्त फायदे

कल्याण आयुर्वेद - ज्यादातर लोग सुबह उठते हैं, नाश्ता करके अपने काम पर निकल जाते हैं. जब वह शाम को काम से लौटते हैं, तो भोजन करते हैं और जरूरी काम करके तुरंत सो जाते हैं. यह लाइफ़स्टाइल ज्यादातर लोगों की है. अगर आप भी ऐसा कर रहे हैं तो सावधान हो जाए. फिर रात में खाना खाकर सीधे बिस्तर पर जाना आपको मोटापे समेत कई बीमारियों का शिकार बना सकता है. भोजन के बाद हमें जरूर टहलना चाहिए. इससे शरीर का हर अंग और मांसपेशियां ठीक से काम करती है. इससे ब्लड सरकुलेशन ठीक तरह से काम करता है. टाइप टू डायबिटीज के मरीजों को भी खाना खाने के बाद थोड़ी देर टहलने की सलाह दी जाती है. इससे उनका ब्लड शुगर लेवल कम होता है.

रात में खाना खाने के बाद इतने मिनट टहलना है जरूरी, मिलेंगे ये जबरदस्त फायदे

कितने मिनट टहलना है जरूरी -

रात में खाना खाने के बाद कम से कम 20 मिनट तो हमें जरूर टहलना चाहिए. अगर आपके पास ज्यादा समय है तो आप इसे बढ़ा सकते हैं. लेकिन ध्यान रखें कि आप को भोजन करने के 1 घंटे के अंदर ही टहलना है.

रात में खाना खाने के बाद टहलने के जबरदस्त फायदे -

1.वजन कम करने में मददगार -

यदि आप अपना वजन कम करना चाहते हैं, तो खाना खाने के बाद आपको लगभग 20 मिनट तक जरूर टहलना चाहिए. यह मोटापे का खतरा काफी हद तक कम करता है. क्योंकि पैदल चलना मेटाबॉलिज्म को बूष्ट करता है. और वजन को कम करने में आपका मेटाबोलिज्म सही होना बहुत जरूरी है.

2.ब्लड शुगर रहता है नियंत्रित -

खाना खाने के कुछ समय बाद आपके शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ना शुरू हो जाता है. जब आप खाना खाने के बाद टहलने जाते हैं, तो इससे ब्लड शुगर का लेवल नियंत्रित रखने में मदद मिलती है. इससे हाइपरग्लिकेमिया का खतरा भी कम हो जाता है. डायबिटीज मरीजों के लिए रात में खाना खाने के बाद टहलना बहुत ही जरूरी और फायदेमंद है.

3.पाचन में सुधार करने में मददगार -

यदि आपको अक्सर सुबह उठते ही पेट से जुड़ी समस्याएं होने लगती है, तो रात के खाने के बाद आपके लिए टहलना बहुत ही जरूरी है. यह आपके पाचन तंत्र को स्वास्थ्य बनाएगा इससे सूजन कम होती है. कब्ज की संभावना भी कम होती है और पेट से संबंधित किसी भी अन्य समस्याओं से छुटकारा मिलता है.

4.इम्यूनिटी बढ़ाने में मददगार -

यदि आप अपनी इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए उपाय ढूंढ रहे हैं, तो इसके लिए डाइट के साथ-साथ आपको अपने लाइफस्टाइल पर ध्यान देना भी जरूरी है. इसके लिए रात को खाना खाने के बाद टहलना फायदेमंद है. यह इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद करता है. क्योंकि यह आपकी इम्यून सिस्टम से टॉक्सिन को बाहर निकालता है. पैदल चलना हमारे आंतरिक अंगों के लिए बेहतर तरीके से काम करता है.

5.तनाव को दूर करता है -

आपको जानकर हैरानी होगी परंतु खाना खाने के बाद पैदल चलना आपके शरीर में एंडोर्फिन को मुक्त करके तनाव को कम करने का काम करता है. लिहाजा आप बेहतर महसूस कर पाते हैं और आपको तनाव से छुटकारा मिलता है. आपको बता दें तनाव एक बहुत ही बड़ी समस्या है. यह आपको कई मानसिक समस्याओं का शिकार बना सकता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जानें- बेहोशी होने के कारण, लक्षण और आपातकालीन उपचार

कमर दर्द ( कटि वेदना ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्वसनीविस्फार ( ब्रोंकाइटिस ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

कंपवात रोग क्या है? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

वृक्क पथरी क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

प्रतिश्याय ( सर्दी ) क्यों हो जाती है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

बुढ़ापे में भी मर्दाना कमजोरी दूर करने के 9 घरेलू उपाय

चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

हींग क्या है ? जाने इसके फायदे और इस्तेमाल करने के तरीके

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

पेट में कृमि ( कीड़ा ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पित्ताशय में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

जानें- स्वास्थ्य रक्षा की सरल विधियां क्या है ?

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

दिल की धड़कन रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

अपतानिका ( Tetany ) रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

शरीर की कमजोरी, थकान, खून की कमी दूर कर मर्दाना ताकत को बेहतर बढ़ाती है ये 12 चीजें

Post a Comment

0 Comments