इन बीमारियों से जूझ रहे लोग भूलकर भी ना खाएं टमाटर, पड़ेगा पछताना

कल्याण आयुर्वेद - टमाटर एक ऐसी सब्जी है, जिसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है. टमाटर आपको हर सीजन में आसानी से मिल जाता है. इसमें कैल्शियम, फास्फोरस और विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. टमाटर का इस्तेमाल भोजन को स्वादिष्ट बनाने के साथ-साथ सलाद, सूप और कई अलग-अलग डिशेस बनाने में भी किया जाता है. कुछ लोग इसे सुप, चटनी या सब्जी के रूप में खाना पसंद करते हैं. वैसे तो टमाटर सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है. यह आंखों की रोशनी से लेकर मांस पेशियों के दर्द को ठीक करने साथ ही वजन को कम करने में भी काम आता है. लेकिन कुछ लोगों के लिए टमाटर का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है. आज हम आपको बताएंगे कि किन लोगों को टमाटर का सेवन नहीं करना चाहिए. साथ ही यह भी बताएंगे कि इसका सेवन करने से क्या नुकसान हो सकता है.

इन बीमारियों से जूझ रहे लोग भूलकर भी ना खाएं टमाटर, पड़ेगा पछताना

तो चलिए जानते हैं विस्तार से -

1.किडनी स्टोन से पीड़ित लोग ना खाएं टमाटर -

किडनी स्टोन की समस्या आजकल बहुत ज्यादा देखी जा रही है. आपको बता दें जिन लोगों के गाल ब्लैडर या फिर किडनी में स्टोन की समस्या होती है, उन्हें टमाटर का सेवन करने से परहेज करना चाहिए. क्योंकि टमाटर में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा पाई जाती है. इसलिए टमाटर का ज्यादा मात्रा में सेवन करने से शरीर में कैल्शियम ऑक्सलेट की मात्रा बढ़ जाती है. ऐसे में इसका सेवन करने से किडनी में स्टोन की समस्या और तेजी से बढ़ता है. वहीं अगर जिन लोगों को पहले से पथरी की समस्या है, तो वह भी टमाटर का सेवन ना करें या फिर सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

2.जोड़ों के दर्द की समस्या -

जिन लोगों को जोड़ो के दर्द की समस्या रहती है, उन्हें अपने खान-पान पर ध्यान देना बहुत जरूरी होता है. क्योंकि खानपान की कई ऐसी चीजें हैं, जो उनकी इस तकलीफ को और भी ज्यादा बढ़ा सकती है. अगर आपको भी जोड़ों के दर्द की समस्या रहती है, तो टमाटर का अधिक सेवन करने से परहेज करना चाहिए. इसका सेवन करने से जोड़ों में दर्द या सूजन की परेशानी और ज्यादा बढ़ सकती है. इसलिए टमाटर का कम मात्रा में सेवन करें.

3.पाचन की परेशानी -

जिन लोगों को पाचन से जुड़ी समस्या है या फिर जिन्हें अपच की समस्या रहती है, उन्हें टमाटर का अधिक सेवन करने से परहेज करना चाहिए. टमाटर में साइट्रिक एसिड की मात्रा ज्यादा पाई जाती है. जिसकी वजह से पेट में पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं. अधिक मात्रा में टमाटर का सेवन करने से पेट में गैस, सीने में जलन जैसी परेशानियां भी हो सकती है. इसलिए टमाटर का सेवन सीमित मात्रा में ही करें.

4.एलर्जी की समस्या -

जिन लोगों के एलर्जी की समस्या है, उन्हें टमाटर का अधिक सेवन करने से बचना चाहिए. कई बार टमाटर का अधिक सेवन करने से स्किन एलर्जी रैशेज चेहरे पर सूजन आदि की समस्या हो जाती है. ऐसे लोगों को टमाटर का सेवन करने से परहेज करना चाहिए.

5.डायरिया की समस्या -

यदि आप डायरिया की समस्या से जूझ रहे हैं, तो टमाटर का सेवन करने से बचें. क्योंकि टमाटर में सालमोनेला नाम का एक व्यक्ति या पाया जाता है, जो डायरिया की समस्या को बढ़ाने का काम करता है. इससे आपकी दिक्कत और ज्यादा बढ़ सकती है इसलिए टमाटर खाने से बचें.

6.गैस्ट्रिक एसिड की समस्या -

टमाटर में अम्ल की मात्रा अधिक पाई जाती है अधिक मात्रा में इसका सेवन गैस्ट्रिक एसिड को बढ़ा देता है. जिससे सीने में जलन की समस्या हो सकती है. यदि आपको पाचन तंत्र से जुड़ी समस्या है या फिर गैस्ट्रोओसोफेगल से पीड़ित है, तो टमाटर का सेवन करने से बचें या फिर इसका सेवन कम मात्रा में करें.

7.लाइकोपेनोडर्मिया -

टमाटर में लाइकोपीन की मात्रा अधिक होती है. लाइकोपीन की अधिक मात्रा होने के कारण त्वचा पर सफेद रंग होने लगते हैं. इससे लाइकोपेनोडर्मिया की समस्या हो सकती है. इसलिए टमाटर का सेवन सीमित मात्रा में करें. खासकर जिन लोगों को यह समस्या हो चुकी है या फिर है उन्हें टमाटर खाने से बिल्कुल परहेज करना चाहिए.

8.किडनी रोग के मरीज -

यदि आप किसी प्रकार की किडनी रोग के मरीज हैं, तो टमाटर का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है, किडनी से जुड़ी समस्या में पोटेशियम के ज्यादा सेवन से नुकसान होता है. आपको बता दें टमाटर में पोटेशियम की मात्रा अधिक पाई जाती है. इसके अलावा टमाटर में ऑक्सलेट नाम का तत्व पाया जाता है. इससे किडनी से जुड़ी समस्या हो सकती है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताएं और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

ayurvedgyansagar.com पर पढ़ें-

जानें- बेहोशी होने के कारण, लक्षण और आपातकालीन उपचार

कमर दर्द ( कटि वेदना ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्वसनीविस्फार ( ब्रोंकाइटिस ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

कंपवात रोग क्या है? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

वृक्क पथरी क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

प्रतिश्याय ( सर्दी ) क्यों हो जाती है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

हींग क्या है ? जाने इसके फायदे और इस्तेमाल करने के तरीके

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

बरसात के मौसम में होने वाली 8 प्रमुख बीमारियां, जानें लक्षण और बचाव के उपाय

स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए पुरुषों को इन फलों का सेवन करना चाहिए

पुरुषों में शारीरिक कमजोरी मिटाकर नया जोश प्राप्त कराने के आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

श्वेत प्रदर ( ल्यूकोरिया ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

ये राज पता हो तो हर कोई पा सकता है सुंदर, गोरा और निखरी त्वचा

सिर दर्द होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

बच्चों को सुखंडी ( सुखा ) रोग होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार

वृक्क ( किडनी ) में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

राजयक्ष्मा ( टीबी ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार

आयुर्वेद के अनुसार संभोग करने के नियम, जानें सेक्स से आई कमजोरी दूर करने के उपाय

अशोकारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कुमारी आसव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महासुदर्शन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवंगादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

त्रिफला चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जलोदर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

अल्जाइमर रोग होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

रक्त कैंसर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

बवासीर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

छाती में जलन होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

अग्निमांद्य रोग होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

रैबीज ( जलसंत्रास ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

खांसी होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

 

Post a Comment

0 Comments