कम नींद लेने से हो सकते हैं ये 5 गंभीर समस्याएं, रोज इतने घंटे सोना है जरूरी

कल्याण आयुर्वेद - हेल्थी लाइफस्टाइल के लिए जितना हम खानपान और व्यायाम होता है, उतना ही जरूरी नींद भी होता है. अच्छी नींद लेने के लिए रोज 8 घंटे सोना बहुत जरूरी है. हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि जो भी 8 घंटे की नींद नहीं ले रहा, तो समझ लें वे अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहा है. दरअसल इस तकनीकी दुनिया में इंसान की पूरी दिनचर्या को ही बिगाड़ कर रख दिया है. काम का प्रेशर है कि सुकून भरी नींद के लिए कई जतन करने पड़ते हैं. बिस्तर पर लेटने के बाद भी थके हुए शरीर को हर वक्त चलता दिमाग ठीक से सोने नहीं देता है. और घंटे करवटें बदलते रहता है. अगर आपके साथ भी यह समस्या हैं तो सावधान हो जाइए और पूरी नींद लेने की कोशिश कीजिए. क्योंकि कम नींद लेने से हमें क्या नुकसान हो सकते हैं.

कम नींद लेने से हो सकते हैं ये 5 गंभीर समस्याएं, रोज इतने घंटे सोना है जरूरी

कम नींद लेने के कुछ गंभीर नुकसान -

1.डिप्रेशन, तनाव, गुस्सा की समस्या -

आयुर्वेदिक डॉक्टर कहते हैं, कि जब आपकी नींद पूरी नहीं होती है, तो दिमाग को आराम नहीं मिल पाता है. जिसकी वजह से तनाव बढ़ता है और तनाव की स्थिति में कभी कोई काम ठीक से नहीं हो पाता है. ऐसे में सुस्ती, इरिटेशन और डिप्रेशन जैसी दिक्कतें होना शुरू हो जाती है.

2.दिमाग पर पड़ता है नकारात्मक प्रभाव -

देश के मशहूर आयुर्वेदिक डॉ अबरार मुल्तानी के अनुसार नींद पूरी ना होने की वजह से शरीर और दिमाग पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. अगर आप पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं ले पा रहे हैं, तो दिमागी क्षमता कम हो सकती है, जिससे कार्य क्षमता प्रभावित होती है.

3.दिल के लिए खतरा -

ठीक तरह से नींद ना लेने की वजह से शरीर का मेटाबॉलिज्म रेट सीधे तौर पर प्रभावित होता है. लिहाजा शरीर में चर्बी बढ़ने लग जाती है. ऐसे में दिल की सेहत पर बुरा असर पड़ता है और हाई बीपी, डायबिटीज और हृदय संबंधी परेशानियां बढ़ जाती हैं.

4.सर्दी जुकाम का खतरा बढ़ जाता है -

आयुर्वेदिक डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार एक अध्ययन में पता चला कि जो लोग रात में 6 या उससे भी कम घंटे की नींद लेते हैं, तो सर्दी जुकाम होने का खतरा ज्यादा रहता है.

5.इम्यूनिटी कमजोर होती है -

अगर इंसान भरपूर नींद नहीं लेता है, तो इससे उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर बुरा असर पड़ता है. इससे संबंधित एक रिसर्च भी किया गया है, जिससे यह बात साबित होता है कि इम्युनोलॉजिकल का नींद से गहरा संबंध होता है. ऐसे में जब नींद प्रभावित होती है तो इसका हमारी इम्यूनिटी पर भी प्रभाव पड़ता है. जिससे इम्युनिटी कमजोर होने लगती है और बीमारियां बढ़ने लगती हैं.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक और शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर करें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments