रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की मशीन है ये चीजे, आहार में जरुर करें शामिल

कल्याण आयुर्वेद- इम्यूनिटी हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि अगर हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है तो यह हमारे शरीर को कई बीमारियों से लड़ने की ताकत देती है। जिससे हम किसी भी बीमारी की चपेट में जल्दी नहीं आते। इसलिए हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना बहुत जरूरी है। आज हम कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें नियमित आहार में शामिल करना चाहिए, हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनी रहती है। जिससे हमारे शरीर में रोगों से लड़ने की शक्ति बनी रहती है।


इम्युनिटी मजबूत करने के लिए करें इन चीजों का सेवन-

1 .नींबू-

हम अपनी दादी-नानी और मांओं से बचपन से यही सुनते आ रहे हैं कि नींबू एक जादुई फल है। विटामिन सी से भरपूर यह छोटा खट्टा फल हमारे कई घरेलू उपचारों में एक घटक है। यह शरीर में अम्ल और क्षार का संतुलन बनाकर शरीर के पीएच स्तर में सुधार करने के लिए एक उत्कृष्ट फल है। अपने आहार में खट्टे फलों को शामिल करना समय की मांग है। आप इस बेहद सस्ते और आसानी से मिलने वाले फल को अपनी डाइट में आसानी से शामिल कर सकते हैं। उदाहरण के लिए एक गिलास गुनगुने पानी में आधा नींबू का रस, कुछ पुदीने के पत्ते और स्वादानुसार शहद मिलाकर सुबह खाली पेट पिएं। इसके अलावा आप पकी हुई सब्जियों के ऊपर नींबू निचोड़ सकते हैं। इससे शरीर में पोषक तत्वों को अवशोषित करने की क्षमता बढ़ती है।

2 .लहसुन-

लहसुन के सेवन से हमारे रक्त में वायरस से लड़ने वाली कोशिकाओं की वृद्धि होती है। लहसुन में एंटी-ऑक्सीडेंट की मात्रा बहुत अधिक होती है, जिसके कारण यह फ्री रेडिकल्स और वायरस से संक्रमित कोशिकाओं को नष्ट कर देता है। रोजाना सुबह लहसुन की दो कली का सेवन करने से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलेगी। लहसुन का सेवन करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि इसे कुचलकर 3 से 5 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे बारीक टुकड़ों में काट लें। इससे इसके एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व ज्यादा असरदार हो जाते हैं।

3 .अदरक-

अदरक का इस्तेमाल सदियों से इम्युनिटी बूस्टर के तौर पर किया जाता रहा है। अदरक का प्रयोग विशेष रूप से सर्दी-खांसी के संक्रमण को ठीक करने के लिए किया जाता है। यह एंटी-इंफ्लेमेटरी और कैंसर रोधी गुणों से भरपूर है। एक चम्मच अदरक के रस को गुनगुने पानी या शहद में मिलाकर दिन में दो बार सेवन करें। आप डिटॉक्स ड्रिंक और चाय में अदरक भी मिला सकते हैं। इसे सूप में मिलाकर आप सूप का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ हेल्दी भी बना सकते हैं.

4 .हल्दी-

हल्दी के औषधीय गुणों से हम सभी परिचित हैं। हमारे पूर्वजों ने इसका इस्तेमाल घावों को भरने, सर्दी-खांसी और अन्य संक्रमणों को ठीक करने के लिए किया था। हल्दी हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए भी वरदान है। हल्दी का एक महत्वपूर्ण घटक करक्यूमिन में अद्भुत उपचार गुण होते हैं। करक्यूमिन के कारण हल्दी जीवन रक्षक औषधि का काम करती है। आप इसे अपने दैनिक आहार में शामिल करें। उदाहरण के लिए सुबह गुनगुने पानी में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर या रात को सोते समय दूध में हल्दी मिलाकर पिएं। अगर आपको ये दोनों विकल्प पसंद नहीं हैं तो आप आधा चम्मच हल्दी में एक चम्मच शहद मिलाकर खा सकते हैं। वैसे भारतीय खाने में इसके महत्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यहां बनने वाली ज्यादातर सब्जियों में हल्दी पाउडर का इस्तेमाल किया जाता है।

5 .उच्च प्रोटीन खाद्य पदार्थ-

जब हम इम्युनिटी बूस्टर की बात कर रहे होते हैं तो हमें उन चीजों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए जिनमें प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है। इनमें चिकन, मांस, मछली, अंडे, दाल, सोया और दूध शामिल हैं। हमारा शरीर प्रोटीन से बना है - चाहे वह हमारे बाल, त्वचा, नाखून या कोशिकाएं हों। इसलिए आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपके दैनिक आहार में प्रोटीन की मात्रा पर्याप्त हो। आप नाश्ते में दूध, अंडे, समीर आदि का सेवन कर सकते हैं। वहीं लंच और डिनर में चिकन, अंडे, मीट, दाल, पनीर और मछली परोसी जाती है.

नोट- तो याद रखें, आपको इन चीजों को अपनी ग्रोसरी शॉपिंग लिस्ट में जरूर शामिल करना चाहिए। हां, रंगीन फलों और सब्जियों से मिलने वाले एंटीऑक्सीडेंट के महत्व को कम मत समझिए।

Post a Comment

0 Comments