इन पत्तों से हार्ट अटैक का खतरा होगा कम, जाने कैसे करें इस्तेमाल

कल्याण आयुर्वेद - कुछ पत्तों के इस्तेमाल करने से तमाम तरह के रिस्क कम हो जाते हैं. कई ऐसे पेड़ पौधे मौजूद हैं जिनकी पत्तियां बहुत सारा काम करती हैं. कुछ ऐसा ही नीम के पत्तों के साथ ही होता है. नीम के बारे में तो हम सभी जानते हैं. इन पत्तियों का इस्तेमाल अधिकतर गर्मियों में किया जाता है. इससे ना केवल आपका हृदय स्वस्थ रहता है. बल्कि कई प्रकार की बीमारियां भी आपसे दूर रहती हैं. आज के पोस्ट में हम आपको नीम के पत्ते के कुछ फायदे बताने जा रहे हैं.

इन पत्तों से हार्ट अटैक का खतरा होगा कम, जाने कैसे करें इस्तेमाल

तो आइए जानते हैं नीम के पत्तों के फायदे -

नीम के पत्तों का उपयोग कई तरह के रोगों में किया जाता है. इसका इस्तेमाल करने से आंखों की रोशनी भी तेज होती है. इसके अलावा आंतों के कीड़े, पेट की खराबी, भूख न लगना, त्वचा के अलसर जैसी बीमारियों को खत्म करने में कारगर होता है.

ऐसे करें नीम के पत्तों का इस्तेमाल -

नीम के पत्तों का इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले उसे उबाल ले. उसके बाद इसकी पानी को छानकर नीम के पत्तों की चाय बनाकर पीए. हालांकि यह आपको कड़वी लगेगी. लेकिन इसके फायदे होंगे कि आप इसे यकीनन अपनी डाइट में शामिल करेंगे.

जिन लोगों को त्वचा से संबंधित समस्याएं रहती हैं, उनके लिए नीम के पत्तों का इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद होता है. इसके लिए पानी में नीम के पत्तों को डाल कर आप नहा सकते हैं. इससे त्वचा पर हुई किसी भी तरह की एलर्जी को दूर किया जा सकता है.

शुगर पेशेंट के लिए कैसे फायदेमंद है निम और गिलोय का जूस -

नीम के पत्तों में जहां ग्लाइकोसाइड्स और एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं, तो वहीं गिलोय एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है. यह दोनों की पत्तियां शुगर लेवल को कंट्रोल करने में बहुत ही असरदार है. नीम शरीर में ग्लूकोस लेवल को मैनेज करने का काम करता है, तो वही गिलोय का सेवन करने से शुगर कंट्रोल रहती है. इसके अलावा यह ईमयूनिटी को भी बूस्ट करने का काम करती है. डायबिटीज मरीजों के लिए नीम और गिलोय बहुत ही गुणकारी होते हैं. इसलिए इन्हें रोजाना नीम और गिलोय से बने जूस का सेवन करना चाहिए.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर करें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments