इस मौसम में भूलकर भी ना खाएं दही, नहीं तो भुगतने पड़ेंगे नुकसान

कल्याण आयुर्वेद - दही का इस्तेमाल तो हर घर में किया जाता है. इसको लेकर दावा किया जाता है, कि दही सेहत कि कई दिक्कतों को दूर करने का काम करती है और पाचन क्रिया को बेहतर बनाती है. लेकिन आपको बता दें कि दही खाने के नुकसान भी काफी होते हैं. बदलते मौसम में अक्सर आयुर्वेदिक जानकार सलाह देते हैं, कि दही का सेवन ना किया जाए. इसके अलावा कुछ लोग इसे रात में ना खाने की सलाह देते हैं. आज हम आपको दही के नुकसान बताने जा रहे हैं तो चलिए जानते हैं उसके बारे में.

इस मौसम में भूलकर भी ना खाएं दही, नहीं तो भुगतने पड़ेंगे नुकसान

दही खाने के नुकसान -

1.दही खाने से हो सकती है गले की परेशानी -

कुछ लोगों में देखा गया है, कि दही खाने से गला दुखने लगता है. बदलते मौसम के साथ दही का सेवन करने से बचना चाहिए. अगर आप इसे अपनी डाइट में शामिल करना चाहते हैं, तो इसका भी सेवन दोपहर में करें और ध्यान रखें कि ताज़ी दही का इस्तेमाल करें.

2.आर्थराइटिस पेशेंट के लिए नुकसान देह -

वैसे तो दही हड्डियों के लिए एक बेहतरीन ऑप्शन माना जाता है. लेकिन अर्थराइटिस पेशेंट्स के मामले में यह आपको नुकसान पहुंचा सकती है. अगर आप दही का नियमित तौर पर सेवन करते हैं तो यह आप के दर्द को और बढ़ा देती है.

3.अस्थमा पेशेंट के लिए नुकसान देह -

जिन लोगों को अस्थमा की समस्या है उन्हें भी दही का सेवन बहुत ही कम मात्रा में करना चाहिए. क्योंकि दही का सेवन आपकी इस समस्या को बढ़ाने का काम करती है. जिसकी वजह से अस्थ्मा मरीजों की हालत गंभीर हो सकती है.

4.तेजाब बनाता है दही -

जिन लोगों को तेजाब जल्दी बनता है, उन्हें दही का सेवन नहीं करना चाहिए. यह एसिडिटी की दिक्कत को और भी ज्यादा बढ़ा सकती है. जिन लोगों को एसिडिटी की समस्या रहती है उन्हें दही का सेवन किसी खाद्य पदार्थ के साथ मिलाकर नहीं करना चाहिए. जानकारों का मानना है कि दो परस्पर विरोधी खाद्य पदार्थ एसिडिटी पैदा कर सकते हैं.

5.फ्लू को बिगाड़ सकता है दही -

जो लोग कोल्ड और फ्लू की समस्या से परेशान होने दही का सेवन नहीं करना चाहिए. यह कफ को बढ़ा देती है इसके साथ गले में जलन की समस्या भी पैदा करती है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताएं और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments