गर्मियों में लू से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय, हमेशा रहेंगे स्वस्थ

कल्याण आयुर्वेद - जून-जुलाई के मौसम में गर्मी अपने चरम पर होती है. इन महीनों में खूब लू चलती है. लोग इन दिनों गर्मी से बचने के लिए तरह-तरह के उपाय करते हैं. गर्मियों के दौरान लो हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाती है. लू के कारण लोगों को सिर दर्द, चक्कर आना जैसी समस्याएं भी होने लगती है. यह सिर्फ आपको शारीरिक रूप से ही नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी नुकसान पहुंचाता है, तो ऐसे में गर्मियों में लू और उससे होने वाली समस्याओं से बचने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय अपना सकते हैं.

गर्मियों में लू से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय, हमेशा रहेंगे स्वस्थ

तो आइए जानते हैं गर्मियों में लू लगने से बचने के उपाय बचने के लिए उपाय -

1.दिन में सोना -

गर्मियों को छोड़कर हर मौसम में सोने की मनाही होती है. वहीं गर्मियों में दोपहर में झपकी लेने की सलाह दी जाती है. क्योंकि मौसम गर्म होता है और शारीरिक थकान से राहत मिल जाती है. झपकी लेने का सबसे अच्छा समय भोजन की 1 घंटे बाद ध्यान रहे कि भोजन के तुरंत बाद नहीं सोना चाहिए. वहीं सोने के लिए बाई दिशा और करवट लेकर सोना है. यह आपके पाचन को बेहतर बनाती है. इसलिए गर्मियों के मौसम में दिन में जरूर सोना चाहिए.

2.चांद के नीचे सोना -

गर्मी के दौरान रात में बाहर समय बिताना अच्छा लगता है. आपको बता दें यह सेहत के लिए भी अच्छा माना जाता है. वहीं अगर आप चांद के नीचे सोते हैं, तो ऐसा करने से चांद की चांदनी आपके दिमाग और शरीर को ठंडा करती है और आपको अच्छी नींद लाने में मदद करती है. इसलिए गर्मी के मौसम में रात में आपको चांद के नीचे सोना चाहिए.

3.मिट्टी के बर्तन का पानी पिए -

गर्मियों के दौरान मिट्टी के बर्तन में पानी पीने की सलाह दी जाती है. मिट्टी के बर्तन में पानी प्राकृतिक रूप से ठंडा रहता है. यह तो इसका पहला फायदा है. इसके साथ ही मिट्टी में जो गुण पाए जाते हैं. वह पानी में अवशोषित हो जाते हैं. जिसकी वजह से पानी पीने में स्वादिष्ट भी लगता है और सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद हो जाता है. इसलिए मिट्टी के बर्तन में रखें पानी का सेवन करें. इससे आपको लू से बचने में भी मदद मिलेगी.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताएं और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक और शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments