डायबिटीज के मरीज जरूर करें शरीर के इस हिस्से में मसाज, कंट्रोल हो जाएगा ब्लड शुगर लेवल

कल्याण आयुर्वेद - डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जो एक बार हो जाने के बाद ताउम्र आपका पीछा नहीं छोड़ती. क्योंकि वैज्ञानिक अब तक इसका पुख्ता इलाज ढूंढ पाने में नाकाम रहे हैं. मधुमेह में मरीजों को अपने खाने-पीने और जीवनशैली का खास ख्याल रखना पड़ता है. वरना ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है. जिससे कई अन्य बीमारियों का खतरा पैदा होने लगता है. ऐसे में आप एक मसाज थेरेपी को ट्राई कर सकते हैं, जिसे रिफ्लेक्सोलॉजी कहा जाता है. इससे ना केवल ब्लड सरकुलेशन बेहतर होता है. बल्कि टेंशन को दूर करने में भी मदद मिलता है तो आइए जानते हैं कि यह तरीका डायबिटीज मरीजों के लिए कैसे फायदेमंद होता है.

डायबिटीज के मरीज जरूर करें शरीर के इस हिस्से में मसाज, कंट्रोल हो जाएगा ब्लड शुगर लेवल

रिफ्लेक्सोलॉजी से क्यों होता है फायदा -

आपने एक्यूप्रेशर का नाम जरूर सुना होगा. रिफ्लेक्सोलॉजी इसी सिद्धांत पर काम करता है. इसका कांसेप्ट यह होता है कि हमारे तलवे के अलग-अलग हिस्से शरीर के खास अंगों से जुड़े होते हैं और अगर उन हिस्सों में प्रेशर पड़ता है, तो इसका असर बॉडी के पार्ट्स पर भी पड़ता है. हमारे पैरों के तलवों को पांच जोन में डिवाइड किया जाता है, जो पैर की उंगली से एंड तक रहता है. वहीं शरीर के हिस्से को 10 जोन में बांटा जाता है जिससे रिफ्लेक्सोलॉजी का असर पड़ता है.

डायबिटीज पर रिफ्लेक्सोलॉजी का असर -

उन्नीसवीं सदी के एक सिद्धांत के मुताबिक रिफ्लेक्सोलॉजी हमारे न्यूरॉन को एक्साइट करने का काम करती है. अगर हमारे तलवों को आहिस्ता पर प्रेशर डाला जाए, तो नसें उत्तेजित हो जाती हैं जो सेंट्रल नर्वस सिस्टम को एक मैसेज भेजती है इससे हमारी बॉडी को काफी आराम मिलता है. दिमाग शांत और ब्लड सरकुलेशन पर पॉजिटिव असर डालता है. जब आप पैरों में मालिश कर आते हैं तो इससे न केवल शरीर बल्कि माइंड को भी आराम मिलता है और टेंशन से आजादी मिल जाती है. तनाव को कम करने से ब्लड शुगर लेवल भी कंट्रोल में आने लगता है.

प्रेशर पॉइंट पर दबाव है अहम -

ज्यादातर रिफ्लेक्सोलॉजिस्ट मानते हैं कि पैरों के इन प्रेशर पॉइंट पर दबाव डालने से कार्बोहाइड्रेट मेटाबॉलिज्म के लिए जिम्मेदार बॉडी ऑर्गन को कंट्रोल करके ब्लड शुगर के लेवल को नार्मल करने में मदद मिलती है. कई रिसर्च में यह साबित भी हो चुका है, कि रिफ्लेक्सोलॉजी के कारण पेनक्रियाज और लीवर एक साइड हो जाते हैं. जिससे ब्लड शुगर लेवल को नार्मल करने में मदद मिलती है. ऐसे में डायबिटीज मरीजों के लिए यह थैरेपी फायदेमंद है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताएं और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर करें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments