इन बीमारियों को जड़ से उखाड़ देते हैं जामुन के बीज और छाल, इस तरह करें इस्तेमाल

कल्याण आयुर्वेद - मौसमी फलों का अपना अलग ही मजा आता है. इनका स्वाद बहुत ही बढ़िया होता है. टेस्टी होने के साथ ही यह सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद होते हैं. अब तक गर्मियों के दिन चल रहे थे, जिसमें सभी ने आम का सेवन भरपूर किया. अब गर्मी और इस सीजन के फलों और सब्जियों को गुड बाय कहने का समय आ गया है क्योंकि बारिश की फुहार है दस्तक दे चुकी हैं.

इन बीमारियों को जड़ से उखाड़ देते हैं जामुन के बीज और छाल, इस तरह करें इस्तेमाल

इसके साथ ही सर्दी खासी, बुखार, दस्त, एलर्जी, त्वचा रोग और पेट से जुड़ी परेशानियों से लोग परेशान रहते हैं. एक्सपर्ट के मुताबिक, इन दिक्कतों से बचने का सबसे सही उपाय है. जामुन मार्केट में जामुन मिलने लगी है और आपने भी जामुन जरूर खाई होगी. क्योंकि हमारे सेहत को इसके बहुत सारे फायदे मिलते हैं. इसलिए आज के इस पोस्ट में हम आपको इसके कुछ जबरदस्त फायदे बताएंगे.

जामुन में पाए जाते हैं यह जबरदस्त औषधीय गुण -

जामुन में आयरन, फास्फोरस जैसे तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. जामुन के फलों के साथ-साथ इसकी गुठली पत्तियां हाल में जबरदस्त औषधीय गुण पाए जाते हैं. आदिवासी जामुन के हरेक हिस्से को कई तरह के हर्बल नुस्खों के लिए इस्तेमाल करते हैं और रोगों का इलाज करने के लिए खूब आजमाते हैं. हर्बल जानकारों के मुताबिक खाना खाने के बाद 100 ग्राम जामुन के फल खाना मौसमी बदलाव से जुड़े कई विकारों को दूर करने में मदद करता है.

1.हिमोग्लोबिन बढ़ता है -

एनीमिया यानी कि खून की कमी को दूर करने में और खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाने के लिए जामुन का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है. जामुन और आंवले का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ता है.

2.आयरन की कमी को दूर करता है -

जानकारों के मुताबिक, 15 दिन तक लगातार सौ से डेढ़ सौ ग्राम जामुन चबाने से खून साफ होता है. यह त्वचा के इंफेक्शन में भी फायदा करता है. जामुन के पलों को आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए भी खाया जाता है. इसका सेवन करने से शारीरिक ताकत बढ़ती है. इन फलों में भरपूर मात्रा में कैरोटीन और लौह तत्व पाए जाते हैं. माना जाता है कि गर्भवती महिलाएं जामुन के फलों का सेवन करें तो उन्हें आयरन की कमी नहीं होगी.

3.मूंह की परेशानी से छुटकारा -

इस पाउडर को मंजन बनाकर इस्तेमाल किया जा सकता है. यह मुंह की बदबू को भी दूर करता है. हानिकारक सूक्ष्म जीवों को मारता है और मसूड़ों को मजबूत बनाता है. जामुन की छाल भी मसूड़ों के लिए बहुत फायदेमंद होती है. जामुन की छाल का एक चम्मच पाउडर को एक कप पानी में डालकर उबालें. ठंडा होने पर इस पर कुल्ला कर ले. इससे मसूड़ों की सूजन और खून आने की समस्या तथा दांत दर्द से राहत मिलता है.

4.गठिया रोग में फायदेमंद -

जामुन की छाल को बारीक पीसकर दो चम्मच मात्रा पाउडर को पानी मिलाकर गाढ़ा पेस्ट तैयार कर लें. जोड़ दर्द वाले हिस्से और घुटने पर दिन में तीन से चार बार इसे लगाएं. इससे गठिया के दर्द में काफी आराम मिलता है. जामुन की फल खाने से भी जोड़ों के दर्द से राहत मिलता है.

यह भी है फायदे -

जामुन की गुठली के पाउडर की 1 ग्राम मात्रा को रात में सोने से पहले एक कप गुनगुने पानी में घोलकर बच्चे को पिला दें. इससे बच्चे बिस्तर पर पेशाब करना बंद कर देते हैं.

बुजुर्गों और शुगर के मरीजों को बार बार पेशाब आने की समस्या होती है. ऐसे में इस पाउडर का सेवन करना फायदेमंद होता है. इसके लिए 2 ग्राम पाउडर को सुबह-शाम खाना खाने के साथ खाएं या एक कप गुनगुने पानी में मिलाकर पी सकते हैं. रोजाना इसका सेवन करने से आपको किसी तरह की दिक्कत नहीं होगी.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर करें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments