मुश्किल हालात में तनाव को ना होने दें हावी, वरना होंगे ऐसे नुकसान, पड़ेगा पछताना

कल्याण आयुर्वेद - आपने अक्सर बड़े बुजुर्गों को यह कहते जरूर सुना होगा की चिंता चिता के समान होती है. कई बार हमारे सामने ऐसे मुश्किल हालात आ जाते हैं, जो दिमाग पर पूरी तरह हावी होने लगते हैं. लेकिन आपको बता दें कि अगर आप तनाव लेते हैं, तो यह आपकी सेहत के लिए बहुत हानिकारक होता है. यह आपके शारीरिक और मानसिक दोनों से स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित होता है. आपके पोस्ट में हम आपको तनाव लेने से होने वाले नुकसान के बारे में बताएंगे.

मुश्किल हालात में तनाव को ना होने दें हावी, वरना होंगे ऐसे नुकसान, पड़ेगा पछताना

तो चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से -

1.ब्रेन पर असर -

सबसे पहले आपको बता दें कि ज्यादा टेंशन लेने का सबसे पहला असर हमारे ब्रेन पर पड़ता है. जिसकी वजह से कई बीमारियां हो सकती है. जिनमें एकाग्रता में कमी, अवसाद, डिप्रेशन, मूड स्विंग, चिड़चिड़ापन और झुंझलाहट जैसी समस्याएं शामिल है.

2.दिल की बीमारियां -

तनाव की वजह से कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना आम बात है. अगर आप तनाव लेते हैं तो इससे कोलेस्ट्रॉल तो बढ़ता ही है. उसके साथ ही हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं भी होती है. जिससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ जाता है और कई मामलों में यह जानलेवा भी साबित हो सकता है.

3.जॉइंट और मसल पेन -

तनाव का असर हमारी हड्डियों और मांसपेशियों पर भी पड़ता है. जिसकी वजह से सूजन, मसल पेन, मसल्स में खिंचाव, मसल का चार्ज होना और जोड़ों में दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

4.इम्यून सिस्टम पर असर पड़ता है -

रोगों और संक्रमण से लड़ने के लिए इम्यून सिस्टम का बेहतर होना बहुत ही जरूरी होता है. वरना बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है. आपको बता दें अगर आप ज्यादा टेंशन लेते हैं और तनाव में रहते हैं, तो इसका असर आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर पड़ता है और चींटियों की रिकवरी और रिपेयर में काफी वक्त लगता है.

5.आंत में परेशानी -

तनाव की वजह से आपके फंक्शन पर असर पड़ता है. जिससे न्यूट्रिएंट्स के अध्ययन में दिक्कत डायरिया कब्ज और पेट फूलना, पेट में दर्द जैसी समस्याएं देखने को मिलती हैं. इसलिए आपको तनाव लेने से बचना चाहिए.

6.रीप्रोडक्टिव सिस्टम पर असर -

आप शायद इस बात से वाकिफ नहीं होंगे लेकिन टेंशन का असर आपको रिप्रोडक्टिव सिस्टम पर भी पड़ता है. इसकी वजह से हार्मोन प्रोडक्शन में कमी, प्रीमेंस्ट्रूअल सिंड्रोम में इजाफा होने लगता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताएं और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर ले. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments