बारिश की मस्ती में कहीं बिगड़ ना जाए बच्चों की तबीयत, सेहत को दुरुस्त रखने के लिए इन चीजों पर दें ध्यान

कल्याण आयुर्वेद - बारिश का मौसम सुहावना होता है. झुलसा देने वाली गर्मी में जब रिमझिम बारिश होती है तो बड़ों का मन भी खुश हो जाता है. फिर बच्चे तो बच्चे ही हैं. यूं भी बारिश के मौसम में बालमन खुद-ब-खुद खिल उठता है. मगर इस मस्ती में अक्सर हमारी तबीयत भी खराब हो जाती है. बरसात के मौसम में संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा हो जाता है. यह संक्रमण सबसे पहले बच्चों को अपनी चपेट में लेती है. बच्चों की सेहत को सही बनाए रखने के लिए आपको कुछ चीजों पर ध्यान रखना चाहिए. जिसके बारे में आज हम आपको बताएंगे.

बारिश की मस्ती में कहीं बिगड़ ना जाए बच्चों की तबीयत, सेहत को दुरुस्त रखने के लिए इन चीजों पर दें ध्यान

1.खानपान पर रखें नजर -

बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता आम तौर पर काफी कम हो जाती है. मानसून के मौसम में हवा में नमी होती है. जिससे बाहर के खाने से कई तरह की बीमारियां हो सकती है इसके अलावा आपको यह भी नहीं पता होगा कि बाहर का खाना किस तरह की सामग्री से बनाया गया है. सफाई का कितना ध्यान रखा गया है. इसलिए इस मौसम में बच्चों को घर पर खाना खिलाए स्वाद के साथ-साथ सेहत के लिए भी अच्छा रहेगा.

2.रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए -

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए हरी सब्जियों और फलों के माध्यम से बच्चों को आवश्यक विटामिन मिल जाते हैं. बारिश में उबला हुआ पानी पीना और भी फायदेमंद होता है. आप भी बारिश में उबला हुआ पानी पिए और बच्चों को भी यही पानी पिलाएं. क्योंकि पानी को उबालने से उसमें मौजूद बैक्टीरिया खत्म हो जाते हैं. बारिश के मौसम में यह करना और भी अति आवश्यक हो जाता है. क्योंकि इस मौसम में बैक्टीरियल इनफेक्शन बड़ी ही आसानी से हो जाता है और जगह-जगह पर बैक्टीरिया पनपते हैं.

3.साफ-सफाई पे ध्यान दें -

बच्चों के कपड़ों को एंटीसेप्टिक लिक्विड से धोएं. ताकि किसी भी तरह के बैक्टीरियल या फंगस ना पनप पए और आपके बच्चे को नुकसान ना हो बैक्टीरियल या फंगस से त्वचा से संबंधित समस्याएं तो हो ही सकती है. साथ ही बच्चे की तबीयत भी खराब हो सकती है इसलिए साफ सफाई पर ध्यान देना बहुत ही जरूरी होता है.

4.तापमान गर्म रखें -

मानसून में हवा में नमी होने के कारण सर्दी लगने की संभावना भी बहुत अधिक होती है. खासकर बच्चों को बहुत ही जल्दी सर्दी लग जाती है. इसलिए इस बात का ध्यान रखें कि आप का तापमान गर्म रहे. ऐसे में बच्चे जिस कमरे में रहते हैं, उस कमरे को सूखा रखें और वहां पर मौजूद सभी चीजों को सुखाकर और गर्म रखने की कोशिश करें. किसी भी तरह की सीलन को दूर रखें.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments