रहना चाहते हैं टेंशन फ्री ? तो रोजाना करें ये 3 तीन योगासन, दिमाग रहेगा शांत

कल्याण आयुर्वेद - खुशहाल जीवन के लिए मानसिक रूप से स्वस्थ रहना बहुत जरूरी होता है. इसके लिए आपको अपनी पसंद की चीजें करनी चाहिए. योग करने से भी आप अपना दिमाग शांत रख सकते हैं और टेंशन फ्री रह सकते हैं. रोजाना आधे घंटे योग करने से दिमाग को टेंशन से मुक्त किया जा सकता है. आइए आज हम आपको कुछ ऐसे योगासन के बारे में बताएंगे, जो आपकी मेंटल हेल्थ को सुधारकर आपको टेंशन तथा तनाव से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं. 

रहना चाहते हैं टेंशन फ्री ? तो रोजाना करें ये 3 तीन योगासन, दिमाग रहेगा शांत

तो चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से -

1.भुजंगासन -

भुजंगासन को कोबरा पोज भी कहा जाता है और इसके नियमित अभ्यास से सेहत को कहीं फायदे मिलते हैं. पेट और कमर दर्द से परेशान लोग भी इस योग को कर सकते हैं. इसे करने से शरीर में खून का तेज हो जाता है. जिससे मेंटल हेल्थ अच्छी रहती है. भुजंग आसन को करने के लिए आप सबसे पहले जमीन पर पेट के बल लेट जाएं फिर दोनों हाथों को छाती के बराबर पर जमीन पर रखें. अब सांस भरते हुए दोनों हाथों से शरीर को ऊपर उठाएं और सिर को पीछे धकेल ए इस पोजीशन में 20 से 30 सेकंड तक रहे.

2.सेतुबंध आसन -

सेतुबंध आसन को ब्रिज पोज भी कहा जाता है. इसको करने से शरीर के साथ-साथ दिमाग कोई फायदा मिलता है. इससे आपका दिमाग चुस्त दुरुस्त रहता है. इस योग को सुबह खाली पेट करना चाहिए. इसको करने चटकने कूल्हे, पीठ, जांघों और पीठ के निचले हिस्से में दर्द को दूर किया जा सकता है. इसे करने के लिए जमीन पर पीठ के बल लेट जाएं. फिर पैरों को घुटनों से मोड़कर पैर पर वजन डालते हुए हिप्स को उठाएं. हाथों को पैर के निचले हिस्से से पकड़ ले इस पोजीशन में रहकर 15 से 20 बार सांस लें और छोड़े.

3.उत्तानासन -

उत्तानासन से पीड़ित और टखनों के दर्द को दूर किया जा सकता है. इसको करने से दिमाग को शांति मिलती है और तनाव भी दूर रहता है. इसे करने के लिए आप सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं. अब सांस छोड़ते हुए कमर से शरीर को नीचे झुका है और हाथ से पैर को छूने की कोशिश करें. इस पोजीशन में कम से कम 50 सेकंड तक रहे हैं.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments