इन पोषक तत्वों की कमी पर जरूर ध्यान दें महिलाएं, वरना हो सकती है ये गंभीर बीमारियाँ

कल्याण आयुर्वेद - गंभीर बीमारियों के अलावा महिलाएं पोषक तत्व की कमी के अधीन भी होती हैं, जो उनके पूरे स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है. ऐसी चीजों से दूर रहने के लिए एक बैलेंस डाइट निश्चित रूप से महत्वपूर्ण है, हालांकि कभी-कभी बेस्ट डाइट भी आपको अत्यधिक पोषण देने में फेल हो जाते हैं.

इन पोषक तत्वों की कमी पर जरूर ध्यान दें महिलाएं, वरना हो सकती है ये गंभीर बीमारियाँ

थकान महसूस करना, चक्कर आना, सुन महसूस करना, उंगलियों में झुनझुनी से लेकर कमजोर मसल्स और हड्डियों में दर्द जैसे कई लक्षण पोषक तत्वों की कमी की वजह से हो सकते हैं. यदि इसकी कमी को पूरा न किया जाए तो अब किसी गंभीर बीमारी के शिकार भी हो सकते हैं. यही कारण है कि महिलाओं को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें अपनी डाइट में सभी प्रकार के पोषक तत्व शामिल करने हैं. आइए हम महिलाओं में सबसे आम पोषक तत्वों की कमी और खाने के लिए खाद्य पदार्थों पर एक नजर डालते हैं.

1.आयरन -

महिलाओं में आयरन की कमी बहुत आम बात है. यह देखते हुए की महिलाओं को हर महीने मासिक धर्म होते हैं. ऐसे में अगर आयरन की कमी को पूरा न किया जाए, तो एनीमिया होने की संभावना बढ़ जाती है. एनीमिया के लक्षण, चक्कर आना, अत्यधिक थकान, सांस की तकलीफ, जीभ में दर्द, भंगुर नाखून आदि हो सकते हैं. शरीर में आयरन की कमी को पूरा करने के लिए डाइट में समुद्री भोजन, रेड मीट, बीन्स, हरी सब्जियां, मटर और सूखे मेवे खा सकती हैं.

2.कैल्शियम -

कैल्शियम एक महत्वपूर्ण खनिज है, जो हमारे शरीर में हड्डियों और दातों के निर्माण में मदद करता है. एक रिपोर्ट के अनुसार, 8 से 19 साल की लडकियों और 50 वर्ष से अधिक की महिलाओं में कैल्सियम का लेवल कम होने की संभावना सबसे ज्यादा रहती है. इसके लक्षण अत्यधिक थकान कमजोरी बार-बार मांसपेशियों में ऐंठन, त्वचा से संबंधित समस्याएं, कमजोर हड्डियां, दांतों की समस्या और अनियमित दिल की धड़कन हो सकते हैं. शरीर में कैल्शियम के स्तर को बढ़ाने के लिए आपको दूध, दही, पनीर, सोयाबीन, ग्रीन सब्जियां और सेलमन फिश को शामिल करना चाहिए.

3.आयोडीन -

शरीर को थायराइड के स्वस्थ कामकाज और थायराइड हार्मोन के कुशल उत्पादन के लिए आयोडीन आवश्यक है. यह अन्य शारीरिक क्रियाओं पर नजर रखते हुए मेटाबॉलिज्म को प्रबंधित और नियंत्रित करने में मदद करते हैं. शरीर में आयोडीन की कमी से बढ़े हुए थायराइड ग्लैंड हो सकते हैं. इसकी कमी से कमजोरी थकान बालों का झड़ना ठंड लगना और अन्य परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. सेल्फी नमक अंडे चिकन जैसी चीजों से आयोडीन की कमी को पूरा किया जा सकता है.

4.विटामिन बी -

शरीर के लिए हेल्दी कामकाज के लिए विटामिन डी का होना बहुत ही जरूरी माना जाता है. यह एक आवश्यक पोषक तत्व है जो हमारे द्वारा खाए जाने वाले पूर्व निर्धारित सप्लीमेंट और सबसे महत्वपूर्ण सूर्य से प्राप्त किया जा सकता है. विटामिन डी की कमी, थकान, पीठ दर्द, बालों के झड़ने और डिप्रेशन के लक्षण सहित कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं. विटामिन डी फैटी लिवर, ऑयल, अंडे का पीला वाला हिस्सा, डिब्बाबंद टुना, मशरूम, सलमन जैसे फूड खा सकते हैं.

5.विटामिन B12 -

विटामिन B12 हमारे शरीर के लिए सबसे आवश्यक पोषक तत्वों में से एक है. यह एक पानी में घुलनशील विटामिन है जो हम शरीर द्वारा प्राकृतिक रूप से निर्मित नहीं किया जा सकता है. हम जो भी कुछ खाते हैं उन्हीं से विटामिन बी ट्वेल्व को प्राप्त किया जा सकता है. विटामिन बी ट्वेल्व ना केवल मस्तिष्क और नर्वस सेल के विकास में मदद करता है. बल्कि विटामिन बी12 की कमी के लक्षण त्वचा का रंग बदलना, मुंह के छाले, आपके चलने के तरीके में परिवर्तन, कमजोर आंखे, चिड़चिड़ापन और डिप्रेशन है. विटामिन B12 के अच्छे स्रोत के बारे में बात की जाए तो आप इसे प्राप्त करने के लिए दूध, अंडा, दही, फैटी फिश, रेड मीट और पांच सीरियल खा सकते हैं.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments