सर्दियों में बच्चों की सेहत के साथ ना करें लापरवाही, बढ़ सकता है डेंगू का खतरा

कल्याण आयुर्वेद - सर्दी आते ही बच्चों की सेहत का खास ध्यान रखना पड़ता है. क्योंकि सर्दी ए कैसा मौसम है जो अपने साथ कई सारी समस्याओं को लेकर आता है. इस मौसम में हमारी इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है. जिससे हम आसानी से बीमारी और इन्फेक्शन की शिकार होने लगते हैं. बच्चों में यह समस्या ज्यादा देखी जाती है. यही वजह है कि बच्चे का ध्यान कुछ ज्यादा ही रखना पड़ता है. इस मौसम में डेंगू भी तेजी से लोगों को अपना शिकार बनाता है. जिसमें अधिक गिनती बच्चों की होती है डेंगू बुखार बीमारी है, यह मच्छरों के काटने से फैलने वाले वायरस से होता है.

सर्दियों में बच्चों की सेहत के साथ ना करें लापरवाही, बढ़ सकता है डेंगू का खतरा

बच्चों को डेंगू होने पर पूरे शरीर में चकत्ते, बदन दर्द और तेज बुखार जैसी समस्याएं देखने को मिलती है. हालांकि डेंगू बुखार के अधिकांश मामले माइल्ड होते हैं, जो लगभग 1 सप्ताह के अंदर अपने आप ही कम होने लगते हैं. लेकिन कुछ मामलों में यह भी देखा गया है कि यह गंभीर रूप ले लेता है. ऐसे में बॉडी वीकनेस और प्लेटलेट्स कम होने जैसे लक्षण शुरू हो जाते हैं.

वैसे तो डेंगू किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है. चाहे फिर वह बच्चा हो बुजुर्ग हो या फिर युवा ही क्यों ना हो. परंतु देखा जाए तो खासकर बुजुर्ग और बच्चों में यह समस्या ज्यादा होती है. बच्चों और बुजुर्गों को यह बीमारी अपनी चपेट में आसानी से ले लेती है. क्योंकि बच्चों और बुजुर्गों की इम्युनिटी युवाओं के मुकाबले काफी कम होती है. इसलिए डेंगू उन पर ज्यादा अटैक करता है. बच्चों को डेंगू से बचाने के लिए सावधानी बरतना बहुत ही जरूरी होता है. यदि आपके बच्चे स्कूल जाते हैं, तो उनकी सेहत का ध्यान रखना बहुत जरूरी है. क्योंकि स्कूल जाने वाले बच्चे घर से बाहर जाते रहते हैं, जिससे मैं आसानी से डेंगू का शिकार हो सकते हैं.

तो चलिए जानते हैं डेंगू से बचने के लिए आपको क्या करना चाहिए -

1.बच्चे यदि बाहर जाते हैं तो उन्हें पूरी तरीके से सुरक्षित करके भेजें. यानी कि आप को उनके कपड़ों पर ध्यान देना चाहिए. इसके लिए बच्चों को ऐसे कपड़े पहनाए जिससे कि उनका पूरा शरीर ढका रहे. ऐसे में मच्छर उन्हें नहीं काटेंगे. आप चाहें तो उन्हें पेंट जूते मोजे सभी पहनाकर भेजें या बेहतर तरीका रहेगा.

2.शाम होते ही अपने घर के खिड़की और दरवाजे को बंद कर लें. जिससे कि मच्छर घर में ना आए. आपने देखा होगा शाम के वक्त ही मच्छर हमारे घर में घुस जाते हैं. ऐसे में अगर आप शाम के वक्त अपने घर की खिड़कियों और दरवाजों को बंद कर लेते हैं, तो ऐसा नहीं होगा. इसके अलावा अगर फिर भी मच्छर घुस जाते हैं तो आपको रात में सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करना चाहिए.

3.बच्चों को घर में रहना कम और बाहर रहना ज्यादा पसंद होता है.बच्चों को खेलना, घूमना यह सब बहुत ज्यादा पसंद है, ऐसे में आप चाहे तो बच्चे को दोपहर के समय बाहर भेज सकते हैं. वैसे तो इस स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए दोपहर में बाहर जा पाना संभव नहीं होता है. लेकिन अगर आपके बच्चे स्कूल जाने लायक नहीं है तो फिर आप उन्हें दोपहर के वक्त घर से बाहर खेलने को भेज सकते हैं. क्योंकि सुबह और शाम के वक्त मच्छर ज्यादा एक्टिव रहते हैं. ऐसे में दोपहर के समय में मच्छरों का खतरा कम रहता है.

4.मच्छरों को दूर भगाने के लिए जरूरी है कि आप उन्हें पनपने के लिए जगह ही ना दें. मच्छर पानी में अंडे देते हैं इस बात का ध्यान रखें. इसके लिए आपको करना है यह है कि अपने घर में रखें कोई भी खाली कंटेनर में पानी जमा होने नहीं देना है. क्योंकि ऐसी जगहों पर मच्छर ज्यादा अंडे देते हैं. आपने देखा होगा मच्छर गंदगी के जगह पर ज्यादा रहते हैं. ऐसे में आप अपने घर की साफ सफाई करें और घर को गंदा होने से बचाएं.

5.घर में पालतू जानवर पक्षी वगैरा के होने से मच्छर ज्यादा आते हैं. क्योंकि यह पालतू जानवर के शरीर में काफी गंदगी होती है. इसलिए उन्हें साफ करना बहुत जरूरी है. अगर आपके घर में कोई पालतू जानवर या पेट है तो आपको उनके साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए.

6.इम्यूनिटी कमजोर होने पर बच्चे जल्दी बीमार हो जाते हैं और अगर उन्हें डेंगू मच्छर काट लेता है, तो फिर उन्हें डेंगू की बीमारी हो जाती है. ऐसे में इस समस्या से बचने के लिए आपको इन सभी चीजों का ध्यान रखने के साथ-साथ एक काम और भी करना है कि आपको अपने बच्चे की डाइट का ख्याल रखना है. अपने बच्चे को डाइट में ऐसी चीजों का सेवन कराएं, जो पोषक तत्वों से भरपूर हो और उनके शरीर में पोषक तत्वों की कमी को दूर करके इम्यूनिटी को बढ़ाने का काम करें. इसके लिए आप किसी अच्छे न्यूट्रीशियन की सलाह ले सकते हैं.

7.वैसे तो बच्चों को एक्सरसाइज या योग करना बिल्कुल भी पसंद नहीं आएगा. लेकिन आप चाहे तो बच्चे को खेलकूद में एक्सरसाइज करवा सकते हैं. जी हां इसके लिए आप बच्चे को उनके पसंद का एक्सरसाइज करने में या फिर साइकिल, वाकिंग यह सभी करना भी काफी अच्छा होता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments