जहर के समान है नॉन स्टिक बर्तनों में पका हुआ खाना, इन बीमारियों को देता है दावत

कल्याण आयुर्वेद - आज के इस मॉडर्न जमाने में भारतीय रसोई में खाने की चीजों से लेकर खाना बनाने तक बहुत सारी चीजों में बदलाव आ चुका है. पहले के समय में लोहा मिट्टी आदि के बर्तनों में खाना पकाया जाता था. जिसकी वजह से खाना ना केवल स्वादिष्ट लगता था, बल्कि सेहत के लिहाज से यह वरदान की तरह काम करता था. लेकिन आधुनिक समय में नॉन स्टिक बर्तनों में खाना पकाने का क्रेज बहुत बढ़ गया है. प्रदूषित वातावरण के चलते हर कोई अपनी सेहत को लेकर सतर्क है. लोग सही डाइट फॉलो करते हैं. इसके साथ-साथ सही एक्सरसाइज को भी फॉलो करते हैं और कम तेल मसाले वाला भोजन भी करते हैं.

जहर के समान है नॉन स्टिक बर्तनों में पका हुआ खाना, इन बीमारियों को देता है दावत

दरअसल कम तेल वाला भोजन करने के लिए लोग नॉन स्टिक बर्तनों में खाना पकाने लगे हैं. क्योंकि उन्हें लगता है कि यह उनके लिए अच्छा होगा. क्योंकि नॉन स्टिक पेन आदि में खाना बनाने के लिए काफी कम मात्रा में तेल की जरूरत पड़ती है. इतना ही नहीं दूसरे बर्तनों की तुलना में नॉन स्टिक बर्तनों को साफ करना भी बहुत आसान होता है. क्योंकि नॉन स्टिक का मतलब है कि उसमें कोई भी चीज चिपकेगी नहीं. जिसकी वजह से इसे आसानी से साफ किया जा सकता है.

नॉन स्टिक बर्तनों में खाना बनाना बहुत आसान होता है. लेकिन इससे कहीं ज़्यादा यह आपकी सेहत के लिए हानिकारक होता है. इससे आपको कई गंभीर बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है. जिसके बारे में शायद आपने कभी सोचा भी ना हो. ज्यादातर लोग इन बर्तनों का इस्तेमाल कर रहे हैं इसलिए उन्हें यह जानना बहुत जरूरी है कि इससे उनके सेहत पर क्या असर पड़ता है. आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि नॉन स्टिक बर्तनों में खाना पकाने और खाने के क्या नुकसान होते हैं.

तो चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से -

1.प्रतिरोधक क्षमता होती है कमजोर -

प्रतिरोधक क्षमता यानी कि इम्यूनिटी जिसका स्ट्रांग होना कितना जरूरी है, यह हम सभी जानते हैं. हमारे शरीर में इम्यूनिटी ही वह चीज है, जो अगर स्ट्रांग हो तो हम बीमारियों से लड़ पाते हैं और जल्दी ठीक हो जाते हैं. आप ज्यादातर घरों में नॉन स्टिक बर्तनों का इस्तेमाल किया जा रहा है. इन बर्तनों में केमिकल मौजूद होते हैं जो आपके पाचन शक्ति को प्रभावित करते हैं. इसकी वजह से आपकी पाचन पर असर पड़ता है और आपका पाचन संबंधी समस्याएं शुरू हो जाता है, जिससे आपकी इम्युनिटी कमजोर होने लगती है और आप बीमार पड़ने लगते हैं.

2.कैंसर का शिकार -

कैंसर जानलेवा और खतरनाक बीमारी है, यह तो हम सभी जानते हैं. साथ साथ हमें यह भी पता है कि कैंसर हमारे लिए एक लाइलाज बीमारी है, दरअसल कैंसर का इलाज इतना महंगा है कि हर कोई से नहीं करवा सकता है. इसलिए जरूरी है कि हम इस बीमारी से बचकर रहें. नॉन स्टिक बर्तनों में बने खाने को अगर आप खाते हैं, तो इससे आप कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के शिकार हो सकते हैं. दरअसल अमेरिकन कैंसर सोसायटी के अनुसार, नॉन स्टिक बर्तनों के ज्यादा इस्तेमाल करने से कैंसर बीमारी का खतरा काफी बढ़ जाता है.

3.आयरन की कमी -

लोहे के बर्तन में खाना बनाना हमारी सेहत के लिए बहुत अच्छा इसलिए माना जाता है. क्योंकि लोहे में आयरन होता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी होता है. जबकि नॉन स्टिक बर्तनों में ऐसा कोई भी पोषक तत्व नहीं होता है. इन बर्तनों में खाना पकाने से शरीर के कई पोषक तत्वों को बहुत नुकसान होता है और शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है. जैसे कि आयरन की बात की जाए तो इन बर्तनों में बनाए हुए खाने में आयरन नहीं होता है. जिससे शरीर में आयरन की कमी होने लगती है. शरीर में आयरन की कमी से कई समस्याएं होती है. इसकी वजह से आपको एनीमिया जैसी खतरनाक बीमारी हो सकती है, जो शरीर में आयरन यानी खून की कमी की वजह से होता है.

4.इनफर्टिलिटी की समस्या -

आपको बता दें कि नॉन स्टिक बर्तनों में सिंथेटिक पॉलीमर होता है. जिसे पॉलिटेट्राफ्लोरोएथिलीन कहा जाता है. आम भाषा में इसे टेफलोन के नाम से भी जाना जाता है. दरअसल जब हम नॉन स्टिक पैन में तेल आज पर खाना पकाते हैं, तो टेफलोन से निकलने वाले हानिकारक केमिकल से हमारे खाने में मिक्स हो जाते हैं, जो आगे चलकर आपको कई सारी बीमारियों का शिकार बना सकता है. जिसमें हृदय से संबंधित बीमारियां भी शामिल है. इतना ही नहीं आपको बता दें कि यह केमिकल आपको इनफर्टिलिटी की समस्या का शिकार भी बना सकता है, जो आज के समय में बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है. आजकल ज्यादातर लोगों के साथ यह समस्या देखे जा रही है. जिसके पीछे नॉन स्टिक बर्तन भी काफी ज्यादा शामिल है.

कौन सा बर्तन है सबसे अच्छा -

यदि खाना पकाने के लिए बर्तन की बात की जाए, तो सबसे अच्छा लोहे का बर्तन माना जाता है. क्योंकि लोहे में आयरन होता है, जो आपके खाने में मिलकर आपके लिए फायदेमंद बन जाता है. साथ साथ लोहे में बना हुआ खाना स्वादिष्ट भी होता है. इसके अलावा मिट्टी के बर्तनों में बना खाना भी अच्छा होता है. परंतु आज के समय में यह पॉसिबल नहीं है. इसलिए आप चाहे तो स्टील के बर्तनों में भी खाना पका कर खा सकते हैं. परंतु जितना हो सके नॉन स्टिक बर्तनों का इस्तेमाल कम से कम करने की कोशिश करें.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर ले. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments