डायबिटीज मरीजों के लिए रामबाण है यह 1 चीज, रोजाना करें सेवन

कल्याण आयुर्वेद - लाइफस्टाइल और खानपान में गड़बड़ी के कारण आजकल लोग तेजी से डायबिटीज के शिकार हो रहे हैं. डायबिटीज एक ऐसी समस्या है, जिसमें शरीर या तो पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाता है या फिर जो इंसुलिन बनाता है, उसका प्रभावी ढंग से उपयोग नहीं कर पाता है. इस स्थिति में ब्लड शुगर लेवल बढ़ने लगता है. डायबिटीज दो तरह का होता है. टाइप वन और टाइप टू डायबिटीज. इसके अलावा कुछ महिलाओं को भी गर्भावस्था के समय डायबिटीज की समस्या का सामना करना पड़ता है. इसलिए आज पोस्ट में हम आपको टाइप वन और टाइप टू डायबिटीज के बारे में बताने जा रहे हैं.

डायबिटीज मरीजों के लिए रामबाण है यह 1 चीज, रोजाना करें सेवन

तो चलिए जानते हैं विस्तार से -

1.टाइप 1 डायबिटीज -

टाइप वन डायबिटीज किसी भी उम्र में हो सकता है. यह बच्चों और युवाओं में सबसे ज्यादा पाया जाता है. यह एक ऑटोइम्यून बीमारी होती है. इसमें शरीर इंसुलिन बनाना बंद कर देता है. यानी शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन बनाने वाले अग्नाशय की कोशिकाओं पर हमला कर उन्हें खत्म कर देती है. टाइप वन डायबिटीज कम उम्र में या जन्म से भी हो सकता है.

2.टाइप 2 डायबिटीज -

टाइप 2 डायबिटीज के कई कारण हो सकते हैं. इसका मुख्य कारण मोटापा, हाइपरटेंशन और खराब लाइफ स्टाइल है. इसमें शरीर में इंसुलिन कम मात्रा में बनता है. इसमें शरीर में या तो इंसुलिन कब बनने लगता है या फिर शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन के प्रति संवेदनशील नहीं होती है. टाइप टू डायबिटीज अधिकतर व्यस्त लोगों में पाया जाता है.

ऐसे में अगर आप भी टाइप टू डायबिटीज के मरीज हैं, तो आज हम आपको एक ऐसी चीज के बारे में बताने जा रहे हैं जिसका सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है. 

तो आइये जानते हैं विस्तार से -

हम बात कर रहे हैं मेथी के बारे में. मेथी के बीजों से ब्लड शुगर लेवल को कम किया जा सकता है. मेथी के बीजों में फाइबर और अन्य रसायन होते हैं, जो पाचन को धीमा करने में मददगार साबित होते हैं. जबकि शरीर में कार्बोहाइड्रेट और चीनी के अवशोषण को भी कम करते हैं. मेथी के बीजों का सेवन करने से शरीर में इंसुलिन की मात्रा बढ़ती है. कुछ स्टडीज में मेथी को हेल्थ के लिए काफी फायदेमंद माना गया है.

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन में डायबिटीज के उपचार के लिए मेथी को टेस्ट किया गया. इस जांच में मेथी की रोटी का इस्तेमाल किया गया और देखा गया कि किस तरह से मेथी डायबिटीज मरीजों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है. इसमें पाया गया कि मेथी की रोटी खाने से शरीर में कार्बोहाइड्रेट का अवशोषण कम हो जाता है. जिसके लिए डायबिटीज के कुछ मरीजों को रोटी के दो स्लाइस दिए गए. जिसमें 5 ग्राम मेथी थी. मेथी की रोटी खाने के बाद लगातार 4 घंटे तक इन लोगों का ब्लड शुगर लेवल और इंसुलिन की जांच की गई.

वहीं इसके अलावा एक और टेस्ट किया गया जिसमें डायबिटीज के मरीजों को एक हफ्ते नॉर्मल रोटी दी गई और एक हफ्ते मेथी की रोटी दी गई. शोध में पाया गया कि मेथी की रोटी खाने से इन लोगों में ग्लूकोज और इंसुलिन में बदलाव देखा गया. इसमें पाया गया कि मेथी की रोटी इन्सुलिन रेजिस्टेंस को कम करने में फायदेमंद साबित होती है.

ऐसे में यह भी पाया गया कि खाने में मेथी का इस्तेमाल करने से इन्सुलिन रेजिस्टेंस को कम किया जा सकता है. जिससे टाइप टू डायबिटीज की समस्या ठीक होने लगती है. इसी तरह के एक अन्य अध्ययन में देखा गया है कि 10 ग्राम मेथी के बीजों को गर्म पानी में भिगोकर पीने से टाइप टू डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद मिलता है. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ का कहना है, कि मेथी के बीजों से ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments