डायबिटीज मरीजों की यौन क्षमता हो जाती है कमजोर, इन बातों का रखें ध्यान

कल्याण आयुर्वेद - भारत में डायबिटीज के मरीजों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है. कई युवा भी इस बीमारी का तेजी से शिकार हो रहे हैं, जिसकी सबसे बड़ी वजह लोगों की गलत लाइफस्टाइल और खान-पान है. डायबिटीज एक क्रॉनिक बीमारी है, जिससे पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है. लेकिन इसे कंट्रोल कर सकते हैं. डायबिटीज की समस्या होने पर और भी कई बीमारियां होने लगती हैं. यही वजह है कि डायबिटीज को कंट्रोल करके रखना बहुत जरूरी होता है.

डायबिटीज मरीजों की यौन क्षमता हो जाती है कमजोर, इन बातों का रखें ध्यान

डायबिटीज में ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है और इन्सुलिन रेजिस्टेंस इसका कारण होता है. डायबिटीज की समस्या को अगर समय रहते कंट्रोल न किया जाए, तो यह नर्व डैमेज, कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का खतरा बढ़ा देता है. इतना ही नहीं डायबिटीज के कारण पुरुषों और महिलाओं को यौन समस्याओं से भी गुजरना पड़ सकता है. आज के इस पोस्ट में हम आपको इसके बारे में बताएंगे.

तो चलिए जानते हैं विस्तार से -

क्या होता है इन्सुलिन रेजिस्टेंस -

इन्सुलिन रेजिस्टेंस एक गंभीर स्थिति होती है, जिसमें मांस पेशियों पेट और लिवर की कोशिकाएं इंसुलिन को लेकर सही तरीके से रिजेक्ट नहीं कर पाती है. इसकी वजह से ब्लड शुगर लेवल बिगड़ जाता है.

डायबिटीज मरीजों की यौन क्षमता हो जाती है कमजोर, इन बातों का रखें ध्यान

एक्सपर्ट का कहना है कि डायबिटीज के कारण टेस्टोस्टेरोन हार्मोन में कमी, कमेछ्हा में कमी, एनर्जी में कमी, डिप्रेशन, चिंता, थकान, वजन बढ़ना, बार-बार यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन होना, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन और पुरुषों में इनफर्टिलिटी की समस्या का सामना करना पड़ सकता है.

एक्सपर्ट के मुताबिक, महिलाओं में डायबिटीज कई तरीकों से खतरनाक साबित हो सकता है. डायबिटीज की वजह से कमेच्छा में कमी, इंक्शन जैसी समस्याएं होती हैं. नॉर्मल महिलाओं की तुलना में पीसीओएस की समस्या से पीड़ित महिलाओं में टाइप टू डायबिटीज होने का खतरा 10 गुना ज्यादा होता है. मरीजों के इंसुलिन रजिस्टर और हाइपरइन्सुलिनीमिया की समस्या काफी ज्यादा पाई जाती है.

ऐसे में अगर महिलाएं और पुरुष डायबिटीज के कारण होने वाले यौन समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो जरूरी है कि आप अपनी डाइट और डेली लाइफ स्टाइल में कुछ बदलाव करें. आइए जानते हैं उन चीजों के बारे में -

1.डाइट में ऐसी चीजों को शामिल करें जिनमे फाइबर की भरपूर मात्रा पाई जाती हो और जिनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी कम हो, जैसे कि हरी पत्तेदार सब्जियां, सलाद, गाजर, बींस, मटर, ब्रोकली, ताजा फल और नट्स.

डायबिटीज मरीजों की यौन क्षमता हो जाती है कमजोर, इन बातों का रखें ध्यान

2.रेगुलर एक्सरसाइज करें. योग और मेडिटेशन करें जीवन शैली को त्याग कर एक्टिव बने और लंबे समय तक एक ही जगह पर बैठने की बजाए, बीच बीच में उठते रहे 8 से लेकर 10 घंटे की नींद पूरी करें. शराब सिगरेट और अधिक मात्रा में कैफीन का सेवन कम से कम करें. ऐसी चीजें करें जिससे आपका तनाव कम हो सके. जैसी किताबें पढ़ना और गाने सुनना.

3.पुरुषों में नपुंसकता और महिलाओं में वेजिनीस्मस जिसे योनि संकुचन भी कहा जाता है. इस तरह की यौन बीमारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें.

डायबिटीज मरीजों की यौन क्षमता हो जाती है कमजोर, इन बातों का रखें ध्यान

4.हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि डायबिटीज की समस्या काफी तेजी से बढ़ती जा रही है. भारत में डायबिटीज के मामले बढ़ने के पीछे मुख्य कारण लोगों में मोटापा और अन हेल्दी लाइफ़स्टाइल है के कारण होने वाली यौन बीमारियों में शामिल है. वजाइनल इंफेक्शन प्राइवेट हिस्सों में ड्राई नेस, यूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन, कामेच्छा में कमी नपुंसकता, बांझपन.

डायबिटीज मरीजों की यौन क्षमता हो जाती है कमजोर, इन बातों का रखें ध्यान

डायबिटीज सुरक्षित सेक्सुअल हेल्थ के लिए इन बातों का रखें ध्यान -

1.सुरक्षित यौन संबंध -

यौन संबंध बनाते समय कंडोम का इस्तेमाल अवश्य करें. यह अनचाही प्रेगनेंसी को रोकने के साथ ही यौन संचारित संक्रमण के खतरे को भी कम करता है.

2.एक से ज्यादा संबंध -

सुरक्षित सेक्सुअल हेल्थ के लिए जरूरी है कि आप बहुत सारे लोगों के साथ सेक्सुअल संबंध न बनाएं.

3.पर्सनल हाइजीन का रखें ध्यान -

महिलाओं में इंफेक्शन की समस्या काफी ज्यादा देखी जाती है. ऐसे में इससे बचने के लिए प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई खास ध्यान से करें और वेजाइना के पीएच लेवल को बैलेंस करने के लिए आजकल मार्केट में कई तरह के लिक्विड बॉस उपलब्ध है.

4.गायनोकोलॉजिस्ट से करें संपर्क -

महिलाओं के लिए जरूरी है, कि सर्वाइकल कैंसर के खतरे से बचने के लिए समय-समय पर गायनोकोलॉजिस्ट के पास जाकर चेकअप कराते रहें.

5.डॉक्टर से करें बात -

अगर आपको अधिक वजन बढ़ने ज्यादा प्यास लगने और पेशाब आने की समस्या है या बार-बार योनि या मूत्र संक्रमण जैसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

6.एक्सरसाइज करें -

सेहतमंद रहने के लिए एक्सरसाइज करना बहुत जरूरी होता है. इसलिए आपको रोजाना एक्सरसाइज करना चाहिए. आप 1 दिन में कम से कम आधे से 1 घंटे के बीच एक्सरसाइज जरूर करें.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments