चाय की लत आपको बना सकती है इस गंभीर बीमारी का शिकार, जानिए लक्षण और इलाज

कल्याण आयुर्वेद - शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो, जिसे चाय पीना पसंद ना हो. चाय देश ही नहीं, बल्कि विदेश में भी काफी पसंद किए जाने वाला पेय पदार्थ है. चाय की इसी लोकप्रियता के चलते दुनिया भर में कई प्रकार की चाय प्रचलित है. हमारा मूड रिफ्रेश करने के साथ ही यह चाय हमारी सेहत को कई तरह के फायदे भी पहुंचाती है. वहीं सर्दियों के मौसम में तो भारी मात्रा में इसका सेवन किया जाता है.

चाय की लत आपको बना सकती है इस गंभीर बीमारी का शिकार, जानिए लक्षण और इलाज

परंतु क्या आप जानते हैं, कि चाय की लत कई बार आपके लिए हानिकारक भी साबित हो सकती है. दरअसल ज्यादा मात्रा में चाय पीने से आपकी सेहत को बहुत नुकसान होता है और आप हड्डियों की एक खतरनाक बीमारी का शिकार हो सकते हैं. जिसके बारे में आज हम जानकारी देने जा रहे हैं, तो यदि आपको भी चाय पीने की लत लग चुकी है तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें.

तो चलिए जानते हैं विस्तार से -

ज्यादा मात्रा में चाय पीने से होने वाली बीमारी स्केलेटल फ्लोरोसिस के नाम से जानी जाती है. दरअसल इस बीमारी में आपकी हड्डियां अंदर ही अंदर खोखला बनने लगती हैं. इसलिए अगर आप भी चाय पीने के शौकीन हैं, तो आज ही आपको जान लेना चाहिए, कि इसका अधिक सेवन करने से आपको क्या बीमारी हो सकती है.

क्या है स्केलेटल फ्लोरोसिस -

स्केलेटल फ्लोरोसिस हड्डियों की बीमारी है, जो अंदर ही अंदर हमारी हड्डियों को खोखला कर देती है. इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को गठिया यानी आर्थराइटिस जैसा महसूस होने लगता है. यह बीमारी खासतौर पर हड्डियों में दर्द पैदा करने का काम करती है. इस बीमारी के होने पर कमर दर्द, हाथों पैरों में दर्द, जोड़ों में दर्द जैसी समस्याएं रहती हैं.

चाय से हो सकता है स्केलेटल फ्लोरोसिस -

यदि आप खाली पेट चाय पीते हैं या दिन में कई बार चाय का सेवन कर रहे हैं, तो आप सावधान हो जाइए. क्योंकि आपकी यह आदत आपको स्केलेटल फ्लोरोसिस का खतरा बढ़ा देता है. दरअसल चाय में मौजूद फ्लोराइड मिनरल हड्डियों के लिए बहुत नुकसानदायक होता है. ऐसे में शरीर के अंदर फ्लोराइड की मात्रा बढ़ने पर हड्डियों में इसके लिए स्केलेटल फ्लोरोसिस होने की आशंका बढ़ जाती है. साथ ही यह चाय शरीर को कैल्शियम सूखने से भी रोकता है. जिसकी वजह से इस बीमारी का खतरा कई गुना तक बढ़ जाता है.

स्केलेटल फ्लोरोसिस के लक्षण -

पैर भारी रहना, घुटनों के आसपास सूजन, झुकने या बैठने में परेशानी होना, दांतों में अत्यधिक पीलापन, कंधे, हाथ और पैर के जोड़ों में दर्द होना, हाथ पैर का आगे या पीछे की ओर मुड़ जाना, पांव का बाहर या अंदर की और धनुष आकार हो जाना.

दिन में कितनी चाय पीना है सुरक्षित -

चाय के अधिक सेवन करने से न केवल स्केलेटल फ्लोरोसिस बल्कि और भी कई अन्य समस्याएं हो सकती हैं. खाली पेट या ज्यादा मात्रा में चाय पीने से अल्सर हाइपर एसिडिटी, घबराहट, मतली जैसी कई समस्याएं हो सकती है. ऐसे में जरूरी है कि आप सीमित मात्रा में चाय का सेवन करें. दिन में तीन कप चाय का सेवन करना सेहत के लिए खतरनाक नहीं है. लेकिन अगर आप रोजाना तीन कप चाय पी रहे हैं या इससे ज्यादा पी रहे हैं तो आपके लिए यह घातक साबित हो सकता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी ? हमें कमेंट में जरूर बताइए और अगर अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. साथ ही चैनल को फॉलो जरूर कर लें. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments